सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

मोहन करमचंद गांधी से महात्मा गांधी


eksgu djepan xk¡a/kh ls egkRek xka/kh
lR; vkSj vfgalk dk ikB lh[kkus okys lnh ds uk;d dk uke dkSu ugha tkurk gSA vaxzstksa ls vfgalk ds cy ij Hkkjr dks vktknh fnykus okys egkRek xk¡/kh dk uke lkjh nqfu;k esa tkuk tkrk gSA eksgu djepan xk¡/kh ls egkRek xk¡/kh cuus dh ,d yEch xkFkk gSA xqtjkr ds iksjcanj esa tUesa xka/kh th vius fo|kFkhZ thou esa ,d vkSlr Nk= FksA ysfdu viuh esagur vkSj Li’V y{; ds dkj.k os “krkCnh ds uk;d cusA lR; o vfgalk dk ikB i<+kus okys lcds I;kjs ckiw vkt Hkh gekjs fy, ,d egRoiw.kZ O;fDrRo gSaA
xka/kh th us viuk lkjk thou LkPpkbZ vkSj mlds [kkst ds fy, Loa; viuh xfYr;ksa ls lh[krs gq,] mUgksaus vius thou esa fd;s x;s lR; ds iz;ksx dks vkRedFkkRed iqLrd fy[kh ftldk uke Fkk& esjs lR; ds iz;ksxA ;g fdrkc vk¡xzsth Hkk’kk esa fy[kh xbZ ftldk fganh esa vuqokn cgqr yksdfiz; gqvkA egkRek xk¡/kh ds thou dh >yd bl iqLrd esa feyrh gSA vkidks “kk;n ekywe gksxk fd eksgu djepan xk¡a/kh tc ;qod Fks rks os if”peh laLd`fr ls cgqr gh izHkkfor FksA muds thou esa vk, dbZ cnyko us mUgsa ekuork dk lsod cuk fn;kA egkRek xk¡/kh us viuh thouh esa fy[kk gS fd eq>s vkRedFkk ds cgkus lR; ds tks vusd iz;ksx eSaus fd;s gS] mldh dFkk fy[kh gSA egkRek xk¡/kh us Hkkjr dh xqykeh vkSj vaxztksa }kjk gks jgs vR;kpkj ls nq[kh FksA os gj dher ij Hkkjr dh vktknh pkgrs FksA blhfy, os Hkkjr dh vktknh ds fy, nf{k.k vfQzdk ls vius Lons”k vk,aA ;gka ij Hkkjrh;ksa vkSj [kklrkSj ij nfyrks dh nqjn”kk ns[k O;fFkr gq,aA ;gha ls muds thou esa cnyko vk;k vkSj vc os Hkkjr dh vktknh ds fy, ,d u;s rjhds dh [kkst dh ftls vkt lkjh nqfu;k us viuk;k og Fkk& vkfgalk vkSj vu”kuA vfgalk ;kuh fcuk fgalk ds viuh ckr euokus ds fy, vu”ku djukA lR; dh bl yM+kbZ esa djepan xk¡/kh vc ,d uk;d cu pqds FksA yk[kksa yksx muds ihNs&ihNs Hkkjr dh vktknh ds laxzke esa dwn iM+sA ftldk ifj.kke ;g gqvk dh vkt ge vktkn Hkkjr esa jg jgs gSaA ge nqfu;k ds lcls cM+s yksdrakf=d ns”k ds fuoklh gSa vkSj bl ckr ij ge Hkkjrh;ksa dks xoZ gSA
xka/kh th ds dqN fln~/kkar gS ftUgs gesa vius thou esa mrkjuk pkfg,A xk¡/kh th us vius thou esa lR;] vfgalk] czg~ep;Z] lknxh vkSj Lo;a ij fo”okl j[kus dh dyk lh[kh Fkh rHkh os tu uk;d] egkRek] ckiw] jk’Vªfirk ds uke ls iqdkjs tkrs gaSA vxj ge ns[ks rks lHkh /keksaZ esa ;gh ckr lh[kus dks feyrh gSA lR; ds ckjs esa xka/kh th us dgk gS fd lR;rk dk lkFk nsus ij gesa  Hk;&vlqj{kk ls eqfDr feyrh gSA lknk thou] mPp fopkj muds thou esa ns[kus dks feyrk gSA mUkds eu esa ,d lPps Hkkjr dh rLohj Fkh tgka pkjksa vksj [kq”kgkyh vkSj HkkbZpkjk gksA ysfdu vkt ge xka/kh th ds fln~/kkarksa ls nwj tk jgs gSaA lgh ek;uksa esa vxj ge egkRek xk¡/kh ds fopkjksa dks ge vius thou esa mrkj ys rks fuf”pr gh ;s fo”o xk¡/kh ds liuksa dk lalkj cu tk,xkA 
vfHk’ksd dkar ik.Ms;

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

ओले क्यों गिरते हैं?

जानकारी

रिंकी पाण्डेय
ओले क्यों गिरते हैं?

बच्चो, कई बार बारिश के दौरान अचानक पानी की बूंदों के साथ बर्फ के छोटे-छोटे गोले भी गिरते हैं। इन्हें हम ओले कहते हैं। ये ओले आसमान में कैसे बनते हैं और ओले क्यों गिरते हैं? तो आओ ओले के बारे में पूरी बात जानें।

-------------------------------------------------------------------------------------------

बच्चों, तुम जानते हो कि बर्फ पानी के जमने से बनता है। अब तुम्हारे मन में ये प्रश्न उठ रहा होगा कि आसमान में ये पानी कैसे बर्फ बन जाता है और फिर गोल-गोले बर्फ के टुकड़ों के रूप में ये धरती पर क्यों गिरते हैं? तुमने जैसा कि पढ़ा होगा कि पानी को जमने के लिए शून्य डिग्री सेल्सियत तापमान होना चाहिए, तुमने फ्रीजर में देखा होगा कि पानी के छोटे-छोटे बूंदें बर्फ के गोले के रूप में जम जाता है, ऐसा ही प्रकृति में होता है। हम जैसे-जैसे समुद्र के किनारे से ऊपर यानी ऊंचाई की ओर बढ़ते हैं, तब जगह के साथ ही तापमान धीरे-धीरे कम होता जाता है। तुम इसे ऐसे समझ सकते हो, लोग गर्मी के मौसम में पहाड़ों पर जाना पसंद करते हैं, क्यों? इसलिए कि पहाड़ पर तापमान कम होता है, यानी मैदान…

आओ जानें डायनासोर की दुनिया

अभिषेक कांत पाण्डेय
स्टीवन स्पीलबर्ग की जुरासिक पार्क फ्रेंचाइजी की नई फिल्म 'जुरासिक वर्ल्ड’ इन दिनों खूब धूम मचा रही है। इससे पहले भी एक फिल्म 'जुरासिक पार्क’ आई थी, जिसने पूरी दुनिया में डायनासोर नाम के जीव से परिचय कराया था। तुमने भी वह फिल्म देखी होगी, आखिर कहां चले गए ये डायनासोर, कैसे हुआ इनका अंत... इनके बारे में तुम अवश्य जानना चाहोगे।


कई तरह के थे डायनासोर

स्टीवन स्पीलबर्ग की जुरासिक पार्क फ्रेंचाइजी की नई फिल्म 'जुरासिक वर्ल्ड’ इन दिनों खूब धूम मचा रही है। इससे पहले भी एक फिल्म 'जुरासिक पार्क’ आई थी, जिसने पूरी दुनिया में डायनासोर नाम के जीव से परिचय कराया था। तुमने भी वह फिल्म देखी होगी, आखिर कहां चले गए ये डायनासोर, कैसे हुआ इनका अंत... इनके बारे में तुम अवश्य जानना चाहोगे।

डायनासोर की और बातें
.इनके अब तक 5०० वंशों और 1००० से अधिक प्रजातियों की पहचान हुई है।
.कुछ डायनासोर शाकाहारी, तो कुछ मांसाहारी होते थे जबकि कुछ डायनासारे दो पैरों वाले, तो कुछ चार पैरों वाले थे।
.डायनासोर बड़े होते थे, पर कुछ प्रजातियों का आकार मानव के बराबर, तो उससे भी छोटे होते…

जानो पक्षियों के बारे में

जानकारी


बच्चो, इस धरती में कई तरह के पक्षी हैं, तुम्हें जानकर आश्चर्य होगा कि हमिंग बर्ड नाम की पक्षी किसी भी दिशा में उड़ती है, तो कुछ पक्षी ऐसे हैं, जो अपने कमजोर पंख की वजह से उड़ नहीं पाते हैं। चलते हैं पक्षियों के ऐसे अजब-गजब संसार में और जानते हैं कि ये पक्षी कौन हैं?
-----------------------------------------------------------------------

हवा में उड़ते हुए तुमने सैकड़ों पक्षियों को देखा होगा। लेकिन कई ऐसे पक्षी भी हैं, जो उड़ नहीं सकते, तो कुछ किसी भी दिशा में उड़ सकते हैं। तुम्हें जानकर हैरानी होगी कि रेटाइट्स बर्ड परिवार से जुड़े विशालकाय पक्षी कभी उड़ा भी करते थे। पर समय गुजरने के साथ-साथ ये जमीन पर रहने लगे। इस कारण से इनका शरीर मोटा होता गया। उड़ान भरने वाले पंख बेकार होते गए और वो छोटे कमजोर पंखनुमा बालों में बदल गए। इनके बारे में तुम जानते हो, शतुर्गमुर्ग, जो ऑस्ट्रेलिया में पाया जाता है। यह उड़ नहीं सकता है लेकिन जमीन पर ये 7० किलोमीटर घंटे की गति से दौड़ सकता है। ऐसे ही कई रेटाइट्स बर्ड परिवार से जुड़े पक्षी की लंबी लिस्ट हैं, जिनमें पेंग्विन, इम्यू, कीवी, बतख आदि आते हैं।

पेंग्विन उड़त…