सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Lkafonk “kkyk o



Lkafonk “kkyk oxZ 2 dh HkrhZ ds ekeys esa Xokfy;j gkbZdksVZ us dbZ ;kfpdkvksa ij ;g varfje vkns”k fn;k fd ftudk ch,M ;k Mh,M 2006 ds ckn fd;k gS vkSj Lukrd ;k baVj esa 50 izfr”kr ls de vad mUgsa HkrhZ izfdz;k esa “kkfey fd;k tk,A ysfdu lafonk “kkyk oxZ 2 ds ,sls vH;fFkZ;ksa dks iath;u ugha fd;k x;k tcfd vkt iath;u dh vafre rkjh[k 30 ekpZ FkhA ,sls esa ljdkj vHkh rd dksbZ ,slh O;oLFkk ugha fd;k ftlls 2006 ds ckn ch,M ;k Mh,M fMxzh /kkjd ftudk Lukrd ;k baVj esa 50 izfr'kr ls de vad gS mUgsa HkrhZ izfdz;k esa “kkfey fd;k tk,A tcfd 50 izfr'kr ds de vad okys 2006 ds ckn ch,M fd;s mEehn~okj ftudk Lukrd esa 50 izfr”kr ls de vad gS vkSj bankSj] tcyiqj gkbZdksVZ esa varfje vkns”k ds fy;s ;kfpdk nk;j dh gS ysfdu tcdh bl lIrkg lkoZtfud vodk”k ds dkj.k tcyiqj gkbZdksVZ esa ,d vizSy dks  yafcr iM+h ;kfpdk ds laca/k esa varfje vkns”k vkuk ckdh gS ysfdu lafonk “kkyk oxZ 2 dh iathdj.k dh vafre rkjh[k chr tkus ds ckn Hkh ljdkj csjkstxkjksa ds lkFk [ksy&[ksy jgh gSA tc bl ekeys esa Xokfy;j gkbZdksVZ 2006 ds ckn ch,M fMxzh /kkjd ftudk Lukrd esa 50 izfr”kr ls de gS mUgsa HkrhZ izfdz;k esa “kkfey gksus dk varfje vkns”k fn;kA rc ljdkj bl rjg ds ekeys okys gtkjksa csjkstxkjksa ds lkFk /kks[kk D;ksa dj jgh gS vxj bl rjg dk varfje vkns”k feyk gS rks U;k; lHkh ij ykxw gksrk gS lHkh ds fy, Hkjrh ds fu;e leku gksus pkfg,A ;fn gkbZdksVZ  ua lafonk “kkyk oxZ 2 ijh{kk mrhZ.k mEehn~okjksa dks iathdj.k esa D;ksa ugha “kkfey djrh gS ftudk 2006 ds ckn ch,M ;k Mh,M fd;k gS vkSj Lukrd ;k baVjehfM,V esa 50 izfr”kr ls de vad gSA ljdkj nksgjk ekinaM D;ksa viuk jgh gSA U;k; fdlh ,d ds fy, ugha gksrk gS vxj 50 izfr”kr ls de vad okyksa dk iathdj.k  gkbZdksVZ ds varfje vkns”k ls fd;k tk jgk gS rks ,sls gtkjksa mehn~okj gS tks fdlh dkj.k ls gkbZdksVZ ugha tk ik, mUgsa Hkh iathdj.k izfdz;k esa “kkfey fd;k tkuk pkfg,A  

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

ओले क्यों गिरते हैं?

जानकारी

रिंकी पाण्डेय
ओले क्यों गिरते हैं?

बच्चो, कई बार बारिश के दौरान अचानक पानी की बूंदों के साथ बर्फ के छोटे-छोटे गोले भी गिरते हैं। इन्हें हम ओले कहते हैं। ये ओले आसमान में कैसे बनते हैं और ओले क्यों गिरते हैं? तो आओ ओले के बारे में पूरी बात जानें।

-------------------------------------------------------------------------------------------

बच्चों, तुम जानते हो कि बर्फ पानी के जमने से बनता है। अब तुम्हारे मन में ये प्रश्न उठ रहा होगा कि आसमान में ये पानी कैसे बर्फ बन जाता है और फिर गोल-गोले बर्फ के टुकड़ों के रूप में ये धरती पर क्यों गिरते हैं? तुमने जैसा कि पढ़ा होगा कि पानी को जमने के लिए शून्य डिग्री सेल्सियत तापमान होना चाहिए, तुमने फ्रीजर में देखा होगा कि पानी के छोटे-छोटे बूंदें बर्फ के गोले के रूप में जम जाता है, ऐसा ही प्रकृति में होता है। हम जैसे-जैसे समुद्र के किनारे से ऊपर यानी ऊंचाई की ओर बढ़ते हैं, तब जगह के साथ ही तापमान धीरे-धीरे कम होता जाता है। तुम इसे ऐसे समझ सकते हो, लोग गर्मी के मौसम में पहाड़ों पर जाना पसंद करते हैं, क्यों? इसलिए कि पहाड़ पर तापमान कम होता है, यानी मैदान…

आओ जानें डायनासोर की दुनिया

अभिषेक कांत पाण्डेय
स्टीवन स्पीलबर्ग की जुरासिक पार्क फ्रेंचाइजी की नई फिल्म 'जुरासिक वर्ल्ड’ इन दिनों खूब धूम मचा रही है। इससे पहले भी एक फिल्म 'जुरासिक पार्क’ आई थी, जिसने पूरी दुनिया में डायनासोर नाम के जीव से परिचय कराया था। तुमने भी वह फिल्म देखी होगी, आखिर कहां चले गए ये डायनासोर, कैसे हुआ इनका अंत... इनके बारे में तुम अवश्य जानना चाहोगे।


कई तरह के थे डायनासोर

स्टीवन स्पीलबर्ग की जुरासिक पार्क फ्रेंचाइजी की नई फिल्म 'जुरासिक वर्ल्ड’ इन दिनों खूब धूम मचा रही है। इससे पहले भी एक फिल्म 'जुरासिक पार्क’ आई थी, जिसने पूरी दुनिया में डायनासोर नाम के जीव से परिचय कराया था। तुमने भी वह फिल्म देखी होगी, आखिर कहां चले गए ये डायनासोर, कैसे हुआ इनका अंत... इनके बारे में तुम अवश्य जानना चाहोगे।

डायनासोर की और बातें
.इनके अब तक 5०० वंशों और 1००० से अधिक प्रजातियों की पहचान हुई है।
.कुछ डायनासोर शाकाहारी, तो कुछ मांसाहारी होते थे जबकि कुछ डायनासारे दो पैरों वाले, तो कुछ चार पैरों वाले थे।
.डायनासोर बड़े होते थे, पर कुछ प्रजातियों का आकार मानव के बराबर, तो उससे भी छोटे होते…

जानो पक्षियों के बारे में

जानकारी


बच्चो, इस धरती में कई तरह के पक्षी हैं, तुम्हें जानकर आश्चर्य होगा कि हमिंग बर्ड नाम की पक्षी किसी भी दिशा में उड़ती है, तो कुछ पक्षी ऐसे हैं, जो अपने कमजोर पंख की वजह से उड़ नहीं पाते हैं। चलते हैं पक्षियों के ऐसे अजब-गजब संसार में और जानते हैं कि ये पक्षी कौन हैं?
-----------------------------------------------------------------------

हवा में उड़ते हुए तुमने सैकड़ों पक्षियों को देखा होगा। लेकिन कई ऐसे पक्षी भी हैं, जो उड़ नहीं सकते, तो कुछ किसी भी दिशा में उड़ सकते हैं। तुम्हें जानकर हैरानी होगी कि रेटाइट्स बर्ड परिवार से जुड़े विशालकाय पक्षी कभी उड़ा भी करते थे। पर समय गुजरने के साथ-साथ ये जमीन पर रहने लगे। इस कारण से इनका शरीर मोटा होता गया। उड़ान भरने वाले पंख बेकार होते गए और वो छोटे कमजोर पंखनुमा बालों में बदल गए। इनके बारे में तुम जानते हो, शतुर्गमुर्ग, जो ऑस्ट्रेलिया में पाया जाता है। यह उड़ नहीं सकता है लेकिन जमीन पर ये 7० किलोमीटर घंटे की गति से दौड़ सकता है। ऐसे ही कई रेटाइट्स बर्ड परिवार से जुड़े पक्षी की लंबी लिस्ट हैं, जिनमें पेंग्विन, इम्यू, कीवी, बतख आदि आते हैं।

पेंग्विन उड़त…