अभी हम तरूणाई है

अभी हम तरूणाई है
अभी मंहगाई है
अभी भ्रष्टाचार है
अभी चुनाव है
अभी वादें हैं
अभी हम खोखले नहीं
अभी हम खेल भी नहीं
अभी हम तरूणाई हैं
अभी हम कुछ नहीं
कल हम है
कल हमारा है
कल हम वोट डालेंगे
कल हम फिजा बदेलेंगे
हम लोकतंत्र बनेंगे।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

ओले क्यों गिरते हैं?

आओ जानें डायनासोर की दुनिया

जानो पक्षियों के बारे में