शुक्रवार, 13 सितंबर 2013

हिंदी दिवस की याद में व्यंग्य लेख अभिषेक कांत पाण्डेय

हिंदी दिवस की याद में                                व्यंग्य लेख  
अभिषेक कांत पाण्डेय 

हिंदी दिवस 14 सितंबर आने वाला है। कुछ पहले ही लिखने का मन कर रहा सो लिख रहा हूं। अच्छी लगे तो क्लैपिंग कर लीजिएगा। खैर बात शुरू की जाए कहां से यहीं से की भारत की राष्ट्रभाषा क्या है? सीधा जवाब हिंदी। लेकिन कैसे क्या वास्तव में हम अंग्रेजी के आगे हिंदी को संपर्क भाषा मानते हैं? क्या हिंदी सरकारी कार्यालय में खासतौर पर केंद्रीय कार्यालय में राजकाज की भाषा का दर्जा या अनिवार्यता है, नहीं क्योंकि अंग्रेजी प्रेम और हिंदी न सीखने का एक खास वर्ग द्वारा हिंदी हाशिये पर रखी जा रही है।
क्या हिंदी सचमुच में पूरे इंडिया में व्यावहारिक रूप से अपनाई जा रही है। बात फिर घूम रही है क्या हिंदी बोलकर, लिखकर, पढ़कर कम अंग्रेजी जानने वालों के बराबर पैसा कमाया जा सकता है? आप जानते हैं कि हिंदी में सिनेमा उद्योग अरबों कमा रहा है क्या वहां हिंदी की लिपी का लोप नहीं हो रहा देवनागरी गायब नहीं हो रहीं है। रोमन में स्क्रिप्ट को हिंदी बोली में बोलकर एक्टिंग करने वाले करोड़ों कमा रहे हैं जबकि हिंदी साहित्यकर्मी व लेखक अदद पुरस्कार पर ही संतोष कर रहे हैं। हिंदी का अस्तित्व इंडिया में या भारत में यह आप बताएं। फिर भी हिंदी के लिए क्या हो रहा है केवल हिंदी सप्ताह का  सरकारी कार्यालयों के मेन गेट पर बैनर टंगा देख हिंदी का एहसास हो रहा है। हिंदी प्रेमी वही है जो हिंदी में लिखते है या कहे वे केवल हिंदी में ही लिख सकते हैं और अंग्रेजी में नहीं, इसीलिए वे फटेहाल में है। हिंदी कवियों की स्थिति तो थोक में कविता लिखने की कमजोरी है शायद जिनेटिक्स हो यानी बर्बाद होने की पूरी गांरटी है।
गरीब हिंदी मीडियम में पढ़ता है जाहीर है मंहगी अंग्रेजी उसके बस की बात नहीं है तब वह गरीब ही रहेगा। क्या करेगा हिंदी, हिंदी चिल्लाएगा, कुछ हिंदी में लिखेगा सर खपाएगा और पायेगा एक ढेला भी नहीं। हां शाल मिल जाएगी जिससे वे ओढ़ भी नहीं पायेगा चाहे जितनी ठण्डी होगी। पुरस्कार में मिली है तो अलमीरा में रखी जाएगी। खिसियएगा तब जब इंटरनेट पर हिंदी में सामग्री खोजेगा,हिंदी में मानक चीजे मिलेंगी ही नहीं सर खुजलाएगा।

हिंदी केवल जानने वाले नेता हिंदी की जय में वोट बैंक ढूंढते हैं, हिंदी नहीं जानने वाले हिंदी के खिलाफ बोलते हैं। गरीब हिंदी को मजबूरी में ढोह रहा अंग्रेजी महंगी है जैसे वे चिकन बिरयानी नहीं खा सकता सो दाल चावल से काम चला रहा है। आई टाक इंगिलश आई वाक इंगलिश भाई इन सब लिखने के बाद भी मैं अब दूबारा ये गलती नहीं करूंगा, अपने बच्चों को इंग्लिश मीडियम स्कूल में ही पढ़ाउंगा, नहीं तो केवल हिंदी जानने से उनका करियर डवाडोल हो जाएगा।
हां अब तो मेरा हिंदी प्रेम भी कम होने लगा है चलों इंग्लिश वाली मैम से प्यार ही कर लूं, शायद कुछ इंग्लिश का ज्ञान इस प्रौढ़ावस्था में मिल जाए।
अब तो जबान भी लड़खडाने लगी है कहीं सर जी सारे कंट्री में इंग्लिश ही न बोली जाए। अंग्रेज भी बड़े ही चलाक चालक रहें हमारे देश में राज्य करने के लिए हिंदी सीखी लेकिन इंग्लिश में ही सारा राजकाज किया और अंग्रेजी में अंग्रेजों ने प्रापर नाऊन को हिंदी में लखनऊ को अंग्रेजी में लकनऊ कर दिया। सीधा शहर पर अंग्रेजी ने असर किया, इस तरह हमें इंग्लिश विरासत में मिली।

मानाओं साल में बावन हफ्ता हिंदी दिवस, हिंदी का कुछ नहीं होने वाला है। चिल्लाते रहो, लड़ते रहो और बोते रहो हिंदी के लिए कांटे, हमसे अच्छा चाइना है जो अपनी राष्ट्रभाषा को फेविकोल की तरह जोड़कर अपनी संस्कृति दे रहे चाइनिज समान के माध्यम से और हम उनकी अर्थव्यवस्था बढा, माफ कीजिए पता कैसे मैं अर्थव्यवस्थ टापिका पर पहुंच गया गलत है ना फिर मैंने हिंदी के साथ अन्याय कर दिया, काई बात नहीं एक सप्ताह और माना लेंगे। लम्बा चौड़ा भाषण देने के मूड में था हिंदी दिवस पर लेकिन यह हिस्सा मैं किसी नेता को देने जा रहा हूं जो अगामी हिंदी दिवस पर बोलेगा और हम मन ही मन प्रफुल्लित हो होंगे कि चलों एक हिंदी दिवस और बीत गया, हमारी हिंदी बढ़ रही है। न समझ आवा तो हिंदी में समझाई।

हमारी शिक्षा नीति में सुधार की जरूरत

अभिषेक कांत पाण्डेय
हमारी शिक्षा नीति में सुधार की जरूरत                     


जकल अंग्रेजी माध्यम में शिक्षा का चलन तेजी से बढ़ रहा है। इधर कान्वेंट और पब्लिक स्कूल के नाम पर तेजी से प्राइवेट स्कूल खुल रहे हैं जहीर है कि हिंदी मीडियम स्कूल में शिक्षा का गिरता स्तर इसके लिए जिम्मेदार है वहीं सरकार की ढुलमुल नीति इसके लिए सबसे अधिक दोषी है।

हिंदी भाषी राज्यों में अंग्रेजी माध्यम के पब्लिक स्कूल की बाढ़ है। कुछ गिनती के अंग्रेजी माध्यम के स्कूलों को छोड़ दे तो बाकी सभी स्कूल में आंग्रेजी माध्यम में पढ़ने वाले ऐसे छात्र कक्षा आठ तक उनका ज्ञान सीमित ही रह जाता है कारण, अंग्रेजी माध्यम की किताबें स्व:अध्ययन में बाधा उत्पन्न करती है। रिसर्च भी बताते हैं कि प्राईमरी स्तर में अपनी मातृभाषा में पढ़ने से बच्चे बहुत जल्दी सीखते हैं। यही कारण है कि हिंदी भाषा या जिनकी मातृभाषा है वह अंग्रेजी माध्यम के छात्रों के मुकाबले में तेजी से अपने वातारण से सीखते हैं इसमें सहायक उनकी मातृभाषा के शब्द होते हैं जो उनके शुरूआती दौर में सीखने की क्षमता में तेजी से विकास करता है। यहां इस बात का  अफसोस है कि भारत में अंग्रेजी के बढ़ते प्रभाव के कारण प्राईमरी स्तर में बच्चों को आंग्रेजी माध्यम में शिक्षा दी जाने का चलन जोरों पर है जिस कारण से बच्चे ट्रासंलेशन पद्धति में शिक्षा ग्रहण कर रहे हैं।

त्तर के दशक में मातृभाषा में शिक्षा देने वाले शुदृध देशी स्कूलों ने होनहार प्रतिभाएं दी। आजकल तो पब्लिक स्कूल की अंग्रेजी माध्यम में शिक्षा की तकनीक हिंदी—अंग्रेजी खिचड़ी ज्ञान से की जा सकती है। इस तरह प्राईमरी से जूनियर स्तर तक बच्चा कन्फूजिया ज्ञान ही हासिल कर पाता है। आलम यह है कि अंग्रजी माध्यम में विज्ञान, भूगोल, इतिहास आदि के प्रश्नोत्तर को अंग्रेजी भाषा में रटने की प्रवृति ही बढ़ती है जिससे बच्चों में मैलिकता और रचनात्मकता का अभाव हो जाता है जबकि 6 से 14 साल की उम्र में ही बच्चों में रचनात्मकता का विकास होता है, यहां इनकी रचनात्मकता अंग्रेजी माध्यम की वजह से प्रश्नों के उत्तर देते समय अभिव्यक्ति सार्थक नहीं हो पाती है।

      भारतीय परिवेश में हिंदी भाषा या मातृभषा में शिक्षा ग्रहण करने वाले छात्र ज्ञान के स्तर से अच्छे होते कारण स्पष्ट हैं कि कक्षा में रूचि पूरे मनयोग से लेते हैं और इसके बाद घर पर स्वअध्ययन में समय देते हैं। लेकिन मातृभाषा में शिक्षा ग्रहण करने वाले बच्चों के साथ समस्या अंग्रेजी भाषा की शिक्षा में होती है जिस पर अगर ध्यान दिया जाए तो हिंदी माध्यम के छात्र अंग्रेजी के मौलिक ज्ञान को भी प्राप्त कर सकते हैं। इस दिशा पर सरकार कार्य नहीं कर रही है। अंग्रेजी स्पोकेन और उच्चारण संबधित ज्ञान के लिए विषय के रूप में अलग से अ​ब अतिरिक्त कक्षाएं नियमित चलायी जा सकती है।

भारतीय शिक्षा पद्धति संक्रमणकाल से गुजर रही है। वह दिन दूर नहीं की आने वाले समय में हम हिंगिलिश ज्ञान वाले युवा की एक नई पीढ़ी सामने आएगी जो अपनी मातृभाषा को हेय दृष्टि से देखेगी और जो समाज या देश अपनी भाषा व संस्कृति खो देगी तो इसमें काई शक नहीं है कि हम अपनी पहचान और एकता को खो बैठेंगे जो हमारे हजारों सालों की संस्कृति की देन है। भारत क्या अपनी पहचान अपनी तरह से इस विश्वपटल पर नहीं बना सकता है। निसंदेह हम युग निर्माता देश है इसके लिए हमारी सही शिक्षा नीति होनी चाहिए।

यह ब्लॉग खोजें

नये प्रयोग के रूप में मृच्छकटिकम् नाटक का सफल मंचन

रंगमंच नाटक समीक्षा- अभिषेक कांत पांडेय प्रयागराज। उत्तर मध्य सांस्कृतिक केंद्र के प्रेक्षागृह में  प्रख्यात  संस्कृत नाटक  'मृच्छकट...