सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

ऑस्ट्रेलिया की बेहतरीन चार यूनिवर्सिटी

एब्रॉड एजुकेशन
अभिषेक कांत पाण्डेय
ऑस्ट्रेलिया की बेहतरीन चार यूनिवर्सिटी
ऑस्टलिया में इधर कुछ सालों से शिक्षा के लिए भारतीय छात्र का आकर्षण बढ़ा है, यहां यूरोप जैसी हाई क्वॉलिटी की एजुकेशन कम पैसे खर्च कर प्राप्त कर सकते हैं। ऑस्टàेलिया में बेहतरीन चार यूनिवर्सिटीज के बारे में जानकारी दी जा रही है, यहां पर पढ़ाई कर आप अपना भविष्य संवार सकते हैं।
--------------------------------------------------------------------------------------
ऑस्ट्रेलिया दुनिया का सबसे छोटा महाद्बीप है, यहां की बेहतरीन यूनिवर्सिटीज में वर्तमान में 48००० भारतीय छात्र ऑस्ट्रेलिया में पढ़ रहे हैं। दुनिया की 1०० बेस्ट यूनिवर्सिटीज में ऑस्ट्रेलिया की कई यूनिवर्सिटीज शामिल हैं। अमेरिका और ब्रिटेन की तुलना में ऑस्ट्रेलिया में एडमिशन लेना आसान होता है। वोकेशनल कोर्सेज के साथ यहां कॉमर्स और आट्र्स के कोर्सेज के लिए छात्र आते हैं। ऑस्ट्रेलिया की चार बेहतरीन यूनिवर्सिटी जहां पर आप पढ़ाई कर सकते हैं। यहां की बेस्ट यूनिवर्सिटीज हैं- यूनिवर्सिटी ऑफ क्वींसलैंड, ऑस्ट्रेलियन नेशनल यूनिवर्सिटी, यूनिवर्सिटी ऑफ मेलबर्न, यूनिवर्सिटी ऑफ सिडनी।
यूनिवर्सिटी ऑफ क्वींसलैंड
दुनिया की बेहतरीन यूनिवर्सिटी में से एक यूनिवर्सिटी ऑफ क्वींसलैंड ऑस्टàेलिया के ब्रिस्बेन शहर में है, इसकी स्थापना सन् 19०9 में हुआ था। रिसर्च के क्ष्ोत्र में नई टेक्नोलॉजी को बढ़ावा देने में यह यूनिवर्सिटी सबसे आगे है। 5० हजार से ज्यादा छात्र यहां पर ग्रेजुएट और पोस्टग्रेजुएट की पढ़ाई कर रहे हैं। फैकल्टी ऑफ बिजिनस, इकोनामिक्स एंड लॉ, फैकल्टी ऑफ ह्यूमिनिटिस एंड सोशल साइंस, फैकल्टी ऑफ इंजीनियरिंग, आर्किटेक्चर एंड इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी, फैकल्टी ऑफ मेडिसीन एंड बायोमेडिकल साइंस, फैकल्टी ऑफ हेल्थ एंड बिहेविरल साइंस और फैकल्टी ऑफ साइंस कुल 6 फैकल्टी हैं। लेकिन रिसर्च के क्ष्ोत्र में खासतौर पर साइंस, मेडिसीन और टेक्नोलाजी में यह यूनिवर्सिटी रिसर्च छात्रों को आकर्षित करती है। इस यूनिवर्सिटी से कई बेहतरीन रिसर्च इंस्टीटñूट और हेल्थ सेंटर जुड़े हुए हैं। बेहतरीन टीचिंग स्टॉफ के साथ यहां की लाइब्रेरी, म्यूजियम, आर्ट म्यूजियम और छात्रों के रहने के लिए हॉस्टल की सुविधा पढ़ाई के साथ एक अच्छा वातावरण प्रदान करती है। विदेशी छात्रों के मैत्रीय कार्यक्रम, स्टूडेंट एक्सचेंज प्रोग्राम और नए छात्रों को पुराने छात्रों से घुलने-मिलने के लिए 'ओरिएटेशन वीक प्रोग्राम’ भी चलाए जाते हैं। मेडिसीन और टेक्नोलॉजी की पढ़ाई में यह यूनिवर्सिटी सर्वश्रेष्ठ है, वहीं यहां के डिग्री होल्डर के लिए विश्व में कहीं भी जॉब के बेहतर अवसर भी उपलब्ध है। यहां पर कैंपस सेलेक्शन के जरिए विश्व की बेहतरीन कंपनियां, यहां के छात्रों को अच्छा पैकेज देती हैं।
ऑस्ट्रेलियन नेशनल यूनिवर्सिटी
ऑस्ट्रेलियन नेशनल यूनिवर्सिटी सरकार द्बारा संचालित यूनिवर्सिटी है, इसकी स्थापना ऑस्ट्रेलिया की संसद के द्बारा सन् 1946 को हुआ था। ऑस्ट्रेलिया की राजधानी केनबेरा में स्थित यह यूनिवर्सिटी उच्च गुणवत्ता वाली शिक्षा और अपने शांत वातारण के लिए पहचानी जाती है। ग्रेजुएट और पोस्ट ग्रेजुएट कोर्स में 2० हजार से अधिक छात्र यहां शिक्षा ग्रहण कर रहे हैं। रिसर्च के मामले में यह ऑस्ट्रेलिया की सबसे बेहतरीन यूनिवर्सिटी में से एक है, अमेरिका और यूरोप की यूनिवर्सिटी जैसी शिक्षण पद्धति यहां देखने को मिलती है। यहां के टैलेंटेड टीचिंग स्टॉफ के कारण यह रिसर्च की पढ़ाई के लिए आदर्श जगह है। इस यूनिवर्सिटी से संलग्न छह कॉलेज हैं- कॉलेज ऑफ आर्ट एंड सोशल साइंस, कॉलेज ऑफ एशिया एंड पेसिफिक, कॉलेज ऑफ बिजनेस एंड इकोनामिक्स, कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग एंड कम्प्यूटर साइंस, कॉलेज ऑफ लॉ और ज्वॉइंट कालेज ऑफ साइंस।
यूनिवर्सिटी ऑफ मेलबर्न
ऑस्ट्रेलिया की दूसरी सबसे पुरानी यूनिवर्सिटी है, इसकी स्थापना सन् 1853 में हुई थी। अपने 16० साल के इतिहास में इस यूनिवर्सिटी से कई महान हस्तियों ने यहां से पढ़ाई की है, जिनमें सात नोबेल पुरस्कार प्राप्त करने वाले यहां के छात्र रह चुके हैं। यूनिवर्सिटी से जुड़े 12 रेसिडेंशियल कॉलेज हैं, जो मेन कैंपस के आसपास हैं। इस कारण से यहां पर छात्रों को रहने के साथ ही समग्र शिक्षा का अनुभव भी प्राप्त होता है। यहां के विशाल लाइब्रेरी में नई व पुरानी पुस्तकें, रिसर्च सामग्री और डिजिटल सामग्री भी उपलब्ध है। इस लाइब्रेरी में आर्ट एंड ह्यूमिनिटिस, बायोमेडिकल, लॉ, म्यूजिक, वेंटरनरी साइंस की अलग-अलग पुस्तकों का विश्ोष संग्रह भी है। मेडिसिन के क्ष्ोत्र में यहां पढ़ाई के लिए पोस्ट गेजुएट और रिसर्च में कई कोर्स संचालित होते हैं। इसके साथ ही शिक्षा, कला और पर्यावरण में कई उच्च स्तरीय कोर्स भी हैं। पढ़ाई के साथ एक्सट्रा एक्टिविटी के जरिए छात्रों में नेतृत्व गुण व व्यक्तित्व विकास के लिए कई कार्यक्रमों का संचालन होता है। जिनमें 'प्रोश वीक’ में कई तरह के ख्ोल का आयोजन टीम भावना और नेतृत्व के गुण विकसित करने के लिए किया जाता है। 'मेलबर्न एसिलेटर प्रोग्राम’ में वर्कशॉप, पब्लिक इवेंट का अयोजन किया जाता है, जिसमें छात्रों के अंदर एंटरप्रिन्योर बनने की झमता का विकास किया जाता है
यूनिवर्सिटी ऑफ सिडनी
ऑस्टे्लिया की यह पहली यूनिवर्सिटी है, जिसकी स्थापना सन् 185० में हुआ था। अपनी स्थापना से लेकर अब तक यूनिवर्सिटी अपनी क्वॉलिटी एजुकेशन के लिए दुनिया में जाना जाता है। इस यूनिवर्सिटी की 16 फैकेल्टी है और कॉलेज हैं, जिसके माध्यम से ग्रजुएशन, पोस्टग्रेजुएशन और डॉक्टोरल की डिग्री प्रदान करती है। उद्योग और पर्यटन के शहर सिडनी में इस यूनिवर्सिटी का कैंपस दुनिया में टॉप 1० ब्यूटीफुल यूनिवर्सिटी में से एक है। कैंपरडाउन कैंपस जो सिडनी शहर से 3 किलोमीटर दूर है, इस कैंपस की की खूबसूरत बिल्डिंग का डिजाइन 2०वीं शताब्दी में वास्तुकार एडमंड ब्लैकेट ने किया था। यहां पर यूनिवर्सिटी का प्रशासनिक भवन और आर्ट, साइंस, एजुकेशन एंड सोशलवर्क, फार्मेसी, वेटेरनरी साइंस, इकोनामिक्स एंड बिजनेस, इंजीनियरिंग फैकेल्टी स्थित है। विशालकाय फैकेल्टी ऑफ मेडिसीन यहां के टीचिंग हॉस्पिटलस से जुड़े हुए हैं। यहां की मेन लाइब्रेरी में तीन लाख से अधिक पुस्तकें हैं, डिजिटल बुक की लंबी श्रृंखला है। यहां पर न्यूटन की प्रसिद्ध पुस्तक 'आइसक न्यूटन्स फिलास्फी नेचुरालिस प्रिंसिपिया मैथमेटिका’ का प्रथम संस्करण की एकमात्र मूल कापी है।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

ओले क्यों गिरते हैं?

जानकारी

रिंकी पाण्डेय
ओले क्यों गिरते हैं?

बच्चो, कई बार बारिश के दौरान अचानक पानी की बूंदों के साथ बर्फ के छोटे-छोटे गोले भी गिरते हैं। इन्हें हम ओले कहते हैं। ये ओले आसमान में कैसे बनते हैं और ओले क्यों गिरते हैं? तो आओ ओले के बारे में पूरी बात जानें।

-------------------------------------------------------------------------------------------

बच्चों, तुम जानते हो कि बर्फ पानी के जमने से बनता है। अब तुम्हारे मन में ये प्रश्न उठ रहा होगा कि आसमान में ये पानी कैसे बर्फ बन जाता है और फिर गोल-गोले बर्फ के टुकड़ों के रूप में ये धरती पर क्यों गिरते हैं? तुमने जैसा कि पढ़ा होगा कि पानी को जमने के लिए शून्य डिग्री सेल्सियत तापमान होना चाहिए, तुमने फ्रीजर में देखा होगा कि पानी के छोटे-छोटे बूंदें बर्फ के गोले के रूप में जम जाता है, ऐसा ही प्रकृति में होता है। हम जैसे-जैसे समुद्र के किनारे से ऊपर यानी ऊंचाई की ओर बढ़ते हैं, तब जगह के साथ ही तापमान धीरे-धीरे कम होता जाता है। तुम इसे ऐसे समझ सकते हो, लोग गर्मी के मौसम में पहाड़ों पर जाना पसंद करते हैं, क्यों? इसलिए कि पहाड़ पर तापमान कम होता है, यानी मैदान…

आओ जानें डायनासोर की दुनिया

अभिषेक कांत पाण्डेय
स्टीवन स्पीलबर्ग की जुरासिक पार्क फ्रेंचाइजी की नई फिल्म 'जुरासिक वर्ल्ड’ इन दिनों खूब धूम मचा रही है। इससे पहले भी एक फिल्म 'जुरासिक पार्क’ आई थी, जिसने पूरी दुनिया में डायनासोर नाम के जीव से परिचय कराया था। तुमने भी वह फिल्म देखी होगी, आखिर कहां चले गए ये डायनासोर, कैसे हुआ इनका अंत... इनके बारे में तुम अवश्य जानना चाहोगे।


कई तरह के थे डायनासोर

स्टीवन स्पीलबर्ग की जुरासिक पार्क फ्रेंचाइजी की नई फिल्म 'जुरासिक वर्ल्ड’ इन दिनों खूब धूम मचा रही है। इससे पहले भी एक फिल्म 'जुरासिक पार्क’ आई थी, जिसने पूरी दुनिया में डायनासोर नाम के जीव से परिचय कराया था। तुमने भी वह फिल्म देखी होगी, आखिर कहां चले गए ये डायनासोर, कैसे हुआ इनका अंत... इनके बारे में तुम अवश्य जानना चाहोगे।

डायनासोर की और बातें
.इनके अब तक 5०० वंशों और 1००० से अधिक प्रजातियों की पहचान हुई है।
.कुछ डायनासोर शाकाहारी, तो कुछ मांसाहारी होते थे जबकि कुछ डायनासारे दो पैरों वाले, तो कुछ चार पैरों वाले थे।
.डायनासोर बड़े होते थे, पर कुछ प्रजातियों का आकार मानव के बराबर, तो उससे भी छोटे होते…

जानो पक्षियों के बारे में

जानकारी


बच्चो, इस धरती में कई तरह के पक्षी हैं, तुम्हें जानकर आश्चर्य होगा कि हमिंग बर्ड नाम की पक्षी किसी भी दिशा में उड़ती है, तो कुछ पक्षी ऐसे हैं, जो अपने कमजोर पंख की वजह से उड़ नहीं पाते हैं। चलते हैं पक्षियों के ऐसे अजब-गजब संसार में और जानते हैं कि ये पक्षी कौन हैं?
-----------------------------------------------------------------------

हवा में उड़ते हुए तुमने सैकड़ों पक्षियों को देखा होगा। लेकिन कई ऐसे पक्षी भी हैं, जो उड़ नहीं सकते, तो कुछ किसी भी दिशा में उड़ सकते हैं। तुम्हें जानकर हैरानी होगी कि रेटाइट्स बर्ड परिवार से जुड़े विशालकाय पक्षी कभी उड़ा भी करते थे। पर समय गुजरने के साथ-साथ ये जमीन पर रहने लगे। इस कारण से इनका शरीर मोटा होता गया। उड़ान भरने वाले पंख बेकार होते गए और वो छोटे कमजोर पंखनुमा बालों में बदल गए। इनके बारे में तुम जानते हो, शतुर्गमुर्ग, जो ऑस्ट्रेलिया में पाया जाता है। यह उड़ नहीं सकता है लेकिन जमीन पर ये 7० किलोमीटर घंटे की गति से दौड़ सकता है। ऐसे ही कई रेटाइट्स बर्ड परिवार से जुड़े पक्षी की लंबी लिस्ट हैं, जिनमें पेंग्विन, इम्यू, कीवी, बतख आदि आते हैं।

पेंग्विन उड़त…