सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

एग्जाम से पहले करें सही तैयारी

बोर्ड एक्जाम स्पेशल
पूनम रल्हन (स्टूडेंट काउंसलर)


एग्जाम से पहले करें सही तैयारी
आपके फाइनल एग्जाम के अब बहुत कम दिन बचे हैं। परीक्षा देते समय बहुत-सी गलतियां हो जाती हैं, जिससे हो सकता है कि आपके मार्क्स कम आए, इसीलिए हम आपको बताने जा रहे हैं कि एग्जामिनेशन हॉल में क्यूश्चन पेपर को कैसे हल करें, एग्जाम से पहले क्या-क्या तैयारियां जरूरी है। इन तरीकों को अपनाकर आप एग्जाम में हाई मार्क्स ला सकते हैं।
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------
शुभांगी मिश्रा ने ट्वेल्थ के बोर्ड एग्जाम में 91 प्रतिशत मार्क्स लेकर स्कूल में टॉप रैंक प्राप्त किया, तो सभी को आश्चर्य हुआ। शुभांगी सामान्य तौर पर एक ऐवरेज स्टूडेंट के रूप में क्लास में जानी जाती थी। उससे बात करने पर पता चला कि बोर्ड एग्जाम में ऐपियर होने से पहले उसने स्कूल काउंसलर के दिए टिप्स का पूरी तरह से पालन किया था। आइए जानें बोर्ड एग्जाम में अधिक अंक स्कोर करने के लिए एग्जाम के दौरान छात्रों को किन-किन बातों का ध्यान रखना चाहिए।
ध्यान से देखें एग्जाम टाइम टेबल
छात्रों को एग्जाम टाइम टेबल ध्यानपूर्वक देखना चाहिए। ये न सिर्फ एग्जाम ओरियंटेड स्टडी के लिए जरूरी है बल्कि विषय की जरूरत के अनुसार आवश्यक सामान बैग में रखने के लिए भी जरूरी है। मैथ और साइंस के एग्जाम में पेन और स्केल के अलावा ज्यॉमिट्री बॉक्स ओर रबर पेंसिल रखना न भूलें। सही टाइम टेबल की जानकारी होने पर छात्र के लिए निश्चित दिन और तारीख को विषय विश्ोष की तैयारी के लिए जरूरी भी है। एग्जाम सेंटर कहां है इसकी जानकारी पहले से प्राप्त कर लें ताकि निर्धारित समय से पूर्व छात्र वहां पहुंच सके। एग्जाम के एक दिन पूर्व छात्र को अपना बैग व्यवस्थित कर लेना चाहिए। जिसमें एक्जाम में उपयोगी सामग्री जैसे प्रवेश पत्र, पेन आदि पहले से रख लेंं। गलती से भी कोई अतिरिक्त कागज साथ मंे न ले जाएं।
समय से भोजन कर लें
एक्जाम से 45 मिनट पहले ही छात्र को भोजन कर लेना चाहिए। भोजन ऐसा हो, जिससे उसे 3-4 घंटों तक भूख न लगे।
पुस्तकें व नोट्स लेकर न जाए
एग्जाम सेंटर में जाने से एक घंटे पूर्व छात्र को रिवीजन समा’ कर लेना चाहिए। बेहतर होगा पुस्तकें या नोट्स लेकर स्कूल न जाएं। रिसर्च से पता चलता है कि ऐसा करने से औसत से उच्च अंक प्रा’ करने वाले छात्रों को न केवल कॉन्फिडेंस बढ़ता है बल्कि एग्जाम में बेहतर प्रदर्शन की संभावना में भी वृद्धि होती है।
एग्जाम से पूर्व डिस्कशन से बचें
निर्धारित समय से 2० मिनट पूर्व एग्जाम सेंटर हर स्थिति में पहुंच जाएं। ध्यान रख्ों कि एग्जाम से पूर्व साथियों के साथ अधिक डिस्कशन करना छात्रों को कन्फ्यूज तो करता ही है, साथ ही कई बार अपने में कमी महसूस होने से उनका कॉन्फिडेंस लेवल भी कम हो जाता है। ऐसी स्थिति में कभी-कभी क्यूश्चन पेपर ठीक से कर पाना, उनके लिए संभव नहीं होता। इसलिए एग्जाम पूर्व डिस्कशन से बचें। अपने दिमाग को शांत रख्ों और धैर्यता का परिचय दें।

निर्देशों का पालन करें
एग्जाम हॉल में परीक्षक के निर्देशों को ध्यानपूर्वक सुने और उनका पालन करें। जब तक बहुत आवश्यक न हो अन्य छात्रों की तरफ न तो देख्ो और न ही उनसे बातें करने का प्रयास करें। एग्जाम के दौरान टाइम मैनेजमेंट के लिए छात्र के पास घड़ी होनी जरूरी है। आरंभ से ही छात्र समय का ध्यान रख्ों। निर्धारित समय सीमा के में क्यूश्चन पेपर पूरा करें।
क्यूश्यन पेपर को ध्यान से पढ़ें
छात्र को चाहिए कि वह क्यूश्चन पेपर पढèने के लिए मिले निर्धारित समय में ध्यानपूर्वक सभी प्रश्नों को पढ़ें। उत्तर लिखने से पहले प्रत्येक प्रश्न के सभी भागों को ध्यानपूर्वक पढ़ें, फिर उसके सभी भागों का बारी-बारी से उत्तर लिख्ों। ध्यान रहें कि उत्तर लिखने से पहले, सही प्रश्न संख्या लिखनी चाहिए। लिखावट स्पष्ट और पठनीय होनी चाहिए। छात्रों को चाहिए कि निर्धारित शब्द सीमा में उत्तर लिखने का प्रयास करें। ये प्रयास करे कि स्पेलिंग और ग्रामर संबंधी त्रुटियां न हों। उत्तर पुस्तिका में उत्तरों के अतिरिक्त कोई व्यर्थ वाक्य कभी न लिख्ों। कट और ओवर राईटिंग करने से भी बचें। उत्तर के मुख्य बिंदुओं को रेखांकित करें। जहां डायग्राम बनाना जरूरी है, साफ-साफ बनाएं और नमांकरण भी लिख्ों। प्रत्येक प्रश्न का उत्तर लिखने के बाद कम से कम दो लाइनें छोड़ कर अगले प्रश्न का उत्तर लिख्ों।
समय सीमा का रखें ध्यान
आरंभ से ही अपनी गति का ध्यान रख्ों ताकि निर्धारित समय अवधि में आपका कोई प्रश्न हल करने से न छूट जाए। यदि हल करते समय आप को क्यूश्चन पेपर बहुत लेंदी लगे तो सावधानी बरतते हुए, पहले अधिक अंकों वाले बड़े प्रश्नों के उत्तर लिख्ों। बाद के बचे कम समय में छोटे प्रश्न के उत्तर तो लिख ही सकते हैं लेकिन छूटे हुए बड़े प्रश्नों के उत्तर लिखना संभव नहीं होता। यदि आप क्रमानुसार प्रश्नों के उत्तर दे रहे हैं और बीच में कोई विश्ोष प्रश्न का उत्तर सूझ नहीं रहा हो तो उसे याद करने का अत्यधिक प्रयास करने में समय नष्ट न करें। ऐसी स्थिति में उसके लिए स्थान छोड़कर अगला प्रश्न हल करें। अंत में बचे हुए समय में आप उस प्रश्न का उत्तर लिखने का प्रयास करें।
एग्जाम देते समय तनाव से बचें
एग्जाम के दौरान कभी-कभी कुछ छात्रों के सामने क्यूश्चन पेपर देखते ही या हल करते समय ये समस्या आ सकती है कि कुछ प्रश्न कोर्स से संबंधित नहीं है या उन्होंने नहीं पढ़ा है। ऐसी स्थिति में कुछ छात्र कन्फ्यूजन, घबराहट, ओवरलर्निंग, अंडरलर्निंग के कारण प्रश्नों का उत्तर लिखने में स्वयं को असमर्थ महसूस करते हैं। उन्हें बार-बार ख्याल आता है कि प्रश्न का कुछ उत्तर भूल गए हैं और उत्तर लिखने में सक्षम नहीं हैं। इस तरह की स्थिति में छात्र घबरा जाते हैं। ऐसी स्थिति में ये सलाह दी जाती है कि अपने ऊपर घबराहट हावी न होने दें और स्वयं को शांत रख्ों। अधिक तनाव की स्थिति में थोड़ा पानी पीएं। 8-1० बार गहरी सांसे लें और छोड़ें। दिमाग को शांत रखने के लिए 3-4 मिनट तक आंख्ों बंद कर सकते हैं। स्थिति को नियंत्रण में करने के बाद, क्यूश्चन पेपर के सबसे सरल प्रश्नों के उत्तर पहले लिख्ों। बाद में कठिन लगने वाले हर प्रश्न को, जितना उत्तर याद आए लिखों। जहां तक संभव हो सभी प्रश्नों के उत्तर अवश्य लिख्ों।

उत्तर पुस्तिका का रिवीजन जरूर करें
अगर आपने एक से अधिक उत्तर पुस्तिका / ग्राफ का प्रयोग किया है तो रोल नंबर लिखना न भूलें और उसे धागे से अच्छी तरह से बांध लें। रिवजीन करते समय यह निश्चित कर लें कि प्रश्न संख्या सही से लिखा है कि नहीं। यदि कोई प्रश्न किसी कारण से छूट गया है तो उसे पूरा कर लें। प्रत्येक उत्तर के महत्वपूर्ण बिंदुओं को रेंखांकित करें, व्याकरण के चिह्नों को चेक कर लें। टाइम मैनेजमेंट, सकारात्मक दृष्टिकोण के साथ छोटी-छोटी सावधानी को ध्यान में रखकर आप परीक्षा में अच्छे मार्क्स ला सकते हैं।
 

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

ओले क्यों गिरते हैं?

जानकारी

रिंकी पाण्डेय
ओले क्यों गिरते हैं?

बच्चो, कई बार बारिश के दौरान अचानक पानी की बूंदों के साथ बर्फ के छोटे-छोटे गोले भी गिरते हैं। इन्हें हम ओले कहते हैं। ये ओले आसमान में कैसे बनते हैं और ओले क्यों गिरते हैं? तो आओ ओले के बारे में पूरी बात जानें।

-------------------------------------------------------------------------------------------

बच्चों, तुम जानते हो कि बर्फ पानी के जमने से बनता है। अब तुम्हारे मन में ये प्रश्न उठ रहा होगा कि आसमान में ये पानी कैसे बर्फ बन जाता है और फिर गोल-गोले बर्फ के टुकड़ों के रूप में ये धरती पर क्यों गिरते हैं? तुमने जैसा कि पढ़ा होगा कि पानी को जमने के लिए शून्य डिग्री सेल्सियत तापमान होना चाहिए, तुमने फ्रीजर में देखा होगा कि पानी के छोटे-छोटे बूंदें बर्फ के गोले के रूप में जम जाता है, ऐसा ही प्रकृति में होता है। हम जैसे-जैसे समुद्र के किनारे से ऊपर यानी ऊंचाई की ओर बढ़ते हैं, तब जगह के साथ ही तापमान धीरे-धीरे कम होता जाता है। तुम इसे ऐसे समझ सकते हो, लोग गर्मी के मौसम में पहाड़ों पर जाना पसंद करते हैं, क्यों? इसलिए कि पहाड़ पर तापमान कम होता है, यानी मैदान…

आओ जानें डायनासोर की दुनिया

अभिषेक कांत पाण्डेय
स्टीवन स्पीलबर्ग की जुरासिक पार्क फ्रेंचाइजी की नई फिल्म 'जुरासिक वर्ल्ड’ इन दिनों खूब धूम मचा रही है। इससे पहले भी एक फिल्म 'जुरासिक पार्क’ आई थी, जिसने पूरी दुनिया में डायनासोर नाम के जीव से परिचय कराया था। तुमने भी वह फिल्म देखी होगी, आखिर कहां चले गए ये डायनासोर, कैसे हुआ इनका अंत... इनके बारे में तुम अवश्य जानना चाहोगे।


कई तरह के थे डायनासोर

स्टीवन स्पीलबर्ग की जुरासिक पार्क फ्रेंचाइजी की नई फिल्म 'जुरासिक वर्ल्ड’ इन दिनों खूब धूम मचा रही है। इससे पहले भी एक फिल्म 'जुरासिक पार्क’ आई थी, जिसने पूरी दुनिया में डायनासोर नाम के जीव से परिचय कराया था। तुमने भी वह फिल्म देखी होगी, आखिर कहां चले गए ये डायनासोर, कैसे हुआ इनका अंत... इनके बारे में तुम अवश्य जानना चाहोगे।

डायनासोर की और बातें
.इनके अब तक 5०० वंशों और 1००० से अधिक प्रजातियों की पहचान हुई है।
.कुछ डायनासोर शाकाहारी, तो कुछ मांसाहारी होते थे जबकि कुछ डायनासारे दो पैरों वाले, तो कुछ चार पैरों वाले थे।
.डायनासोर बड़े होते थे, पर कुछ प्रजातियों का आकार मानव के बराबर, तो उससे भी छोटे होते…

जानो पक्षियों के बारे में

जानकारी


बच्चो, इस धरती में कई तरह के पक्षी हैं, तुम्हें जानकर आश्चर्य होगा कि हमिंग बर्ड नाम की पक्षी किसी भी दिशा में उड़ती है, तो कुछ पक्षी ऐसे हैं, जो अपने कमजोर पंख की वजह से उड़ नहीं पाते हैं। चलते हैं पक्षियों के ऐसे अजब-गजब संसार में और जानते हैं कि ये पक्षी कौन हैं?
-----------------------------------------------------------------------

हवा में उड़ते हुए तुमने सैकड़ों पक्षियों को देखा होगा। लेकिन कई ऐसे पक्षी भी हैं, जो उड़ नहीं सकते, तो कुछ किसी भी दिशा में उड़ सकते हैं। तुम्हें जानकर हैरानी होगी कि रेटाइट्स बर्ड परिवार से जुड़े विशालकाय पक्षी कभी उड़ा भी करते थे। पर समय गुजरने के साथ-साथ ये जमीन पर रहने लगे। इस कारण से इनका शरीर मोटा होता गया। उड़ान भरने वाले पंख बेकार होते गए और वो छोटे कमजोर पंखनुमा बालों में बदल गए। इनके बारे में तुम जानते हो, शतुर्गमुर्ग, जो ऑस्ट्रेलिया में पाया जाता है। यह उड़ नहीं सकता है लेकिन जमीन पर ये 7० किलोमीटर घंटे की गति से दौड़ सकता है। ऐसे ही कई रेटाइट्स बर्ड परिवार से जुड़े पक्षी की लंबी लिस्ट हैं, जिनमें पेंग्विन, इम्यू, कीवी, बतख आदि आते हैं।

पेंग्विन उड़त…