गुरुवार, 30 अप्रैल 2015

बुलेट ट्रेन, सबसे तेज सवारी

जानकारी
अभिषेक कांत पाण्डेय



बच्चों, ट्रेन में सफर करना कितना मजेदार होता है, लेकिन सोचो कि अगर यह  ट्रेन 6०० किमी प्रति घंटा की स्पीड से चले और तुम इस पर बैठे हो तो तुम्हें बहुत रोमांच का अनुभव होगा। दुनिया में सबसे तेज चलने वाली ऐसी ट्रेन को बुलेट टàेन कहा जाता है, तो आओ जानते हैं बुलेट ट्रेन के बारे में-
--------------------------------------------------------------------------------------

बच्चों, जापान में अभी कुछ दिन पहले सबसे तेज चलने वाली बुलेट  ट्रेनों का सफल परीक्षण किया गया। इस ट्रेन ने 6०० किलोमीटर का सफर एक घंटे में तय करने का नया विश्व रिकार्ड बनाया है। आज चीन, अमेरिका, रूस में बुलेट ट्रेनें चल रही हैं, इनकी स्पीड 25० किमी से 58० किमी से अधिक है। हाइ-स्पीड वाली इन बुलेट टàेनों को हमारे देश भारत में भी चलाने की योजना बनाई गई है। हाइ-स्पीड से चलने वाली बुलेट ट्रेन को पटरी पर दौड़ने के लिए खास तकनीक का इस्तेमाल होता है।

कैसे हुई हाइ-स्पीड ट्रेनों की शुरुआत
साल 1938 में पहली बार यूरोप में मिलान से फ्लोरेंस के बीच हाइ-स्पीड ट्रेन की शुरुआत हुई। इस ट्रेनें की अधिकतम रफ्तार करीब 2०० किमी प्रति घंटा थी। द्बितीय विश्व युद्ध के बाद 'इटीआर 2००’ नाम की इस टेक्निक को कई देशों ने उन्नत बनाने का काम शुरू किया। जापान ने 1957 में 'रोमांसेकर 3००० एसएसइ’ नाम से इसकी अच्छी टेक्निक को लॉन्च किया। इसके कुछ ही समय बाद जापान ने दुनिया की पहली हाई-स्पीड ट्रेन की शुरुआत की, जो स्टैंडर्ड गेज (बड़ी लाइन) आधारित ट्रेन थी। इसे आधिकारिक रूप से 1964 में 'शिनकानसेन’ के नाम से शुरू किया गया।

किसे कहते हैं हाइ-स्पीड ट्रेनों

इंटरनेशनल यूनियन ऑफ रेलवेज (यूआइसी) के अनुसार उन टàेनों को हाइ-स्पीड ट्रेनें कहते हैं, जो 25० किमी प्रति घंटा या उससे ज्यादा स्पीड से चलती हैं। देखा जाए तो यह आम चलने वाली ट्रेनों से अलग है। ऐसे ट्रेन की पूरी रैक सामान्य ट्रेनों से अलग होती है और इसमें आधुनिक इंजन लगाए जाते हैं। इसके इंजन का आकार एयरोडायनिक टाइप का होता है, जो हवा को चीरते हुए तेजी से आगे बढ़ता है। यह ट्रेन खास तौर से बनाई गई हाइ-स्पीड लाइन पर चलाई जाती है। स्टील की खास लाइन होती है और घुमावदार स्थानों को खास तरीके से डिजाइन किया जाता है, जानते हो क्यों? इसकी स्पीड मोड़ के कारण कम न हो। यहां पर उन्नत सिगनल सिस्टम का इस्तेमाल किया जाता है, इस तरह से ट्रेन का संचालन अच्छी तरह से होता है।
.

मैग्नेटिक लेविटेशन तकनीक
दुनिया में हाइ-स्पीड ट्रेनों को चलाने में अलग-अलग तकनीक का इस्तेमाल होता है। एक तकनीक मैग्नेटिक लेविटेशन है, इस तकनीक से ट्रेनें चलाने के लिए ट्रेक, सिग्नल आदि को नए सिरे से बनाया जाता है। अधिकतर हाइ-स्पीड ट्रेनें स्टील के बने ट्रैक और स्टील के ही बने हुए पहियों पर चलती हैं, इनकी स्पीड 2०० किमी प्रति घंटे से ज्यादा होती है। जापान में मैग्नेटिक लेविटेशन तकनीक से ही ट्रेनें चलती हैं, जिससे चुंबकीय शक्ति के कारण दौड़ती हुई हाइ-स्पीड ट्रेन ट्रैक से 1० सेमी ऊपर उठ जाती हैं। इस टेक्निक के कारण जापान में  ट्रेनें बहुत तेज चलती हैं।

कैसे चलती है इतनी स्पीड में ये बुलेट ट्रेनों
बुलट ट्रेन की सभी बोगियां एकदूसरे से जुड़ी होती हैं। इसमें ट्रैक्शन मोटर्स को ज्यादा से ज्यादा बोगियों के पहियों से जोड़ दिया जाता है, इसलिए यह उनमें स्पीड बढ़ाता है, जिससे ट्रेन तेजी से स्पीड पकड़ लेती है। बच्चों, इसे ऐसे समझें कि सिगल लोकोमोटिव यानी इंजन में किसी ट्रेन को खींचने की जितनी क्षमता होती है, उतनी क्षमता बुलेट ट्रेन की बोगियों के भीतर लगे उपकरणों में भी होती है। इसलिए इनकी बोगियों को अलग नहीं किया जा सकता और न ही किसी अन्य ट्रेन में इसे आसानी से जोड़ा जा सकता है, जैसा कि सामान्य ट्रेनों में होता है। इसमें चालक के केबिन के तुरंत बाद यात्रियों के कंपार्टमेंट शुरू होते हैं। इसमें ट्रेन संचालन व नेटवर्क से जुड़ी सभी चीजें कंप्यूटर से नियंत्रित होती हैं। इसके लिए ट्रेन व ट्रैक पर बहुत से सेंसर लगे होते हैं। इन सेंसरों के मदद से कंप्यूटर ढेर सारे मिलने वाली डेटा से यह सुनिश्चित किया जाता है कि ट्रेन अपनी पूरी ऊर्जा का इस्तेमाल कर रही है और नियंत्रण में है।





बुधवार, 29 अप्रैल 2015

विदेश में साइकोलॉजी की पढ़ाई कर बनाए कॅरिअर

एब्रॉड एजुकेशन
अभिषेक कांत पाण्डेय


साइकोलॉजी सब्जेक्ट में शानदार कॅरिअर बनाने के लिए विदेशों में कई अच्छे संस्थान हैं। आज हर क्ष्ोत्र में साइकोलॉजिस्ट प्रोफेशनल्स की डिमांड बढ़ रही है, ऐसे में विदेशों में साइकोलॉजी की पढ़ाई का ट्रेंड भी बढ़ रहा है। साइकोलॉजी में नए कोर्स से लैस यूनिवर्सिटी विदेशी छात्रों खासकर भारतीय छात्रों को आकर्षित कर रही हैं।
----------------------------------------------------------------------------------

साइकोलॉजी सब्जेक्ट में कॅरिअर की बेहतर संभावनाएं हैं, आप इस सब्जेक्ट के जरिए हेल्थकेयर सेक्टर में सॉइकोलॉजिस्ट के तौर पर काम कर सकते हैं। सोशल सेक्टर जैसे एनजीओ में काउंसलर की डिमांड भी लगातार बढ़ रही है। अब तो स्कूल और कॉलेज में साइकोलॉजिस्ट रख्ो जाते हैं, जो स्टूडेंट की पढ़ाई से लेकर उनके विकास में आने वाली समस्याओं का समाधान करते हैं। क्रिमिनल साइकोलॉजी दूसरा सबसे बड़ा क्ष्ोत्र डेवलप हो रहा है, जहां पर क्रिमिनल साइकोलोजिस्ट आपराधी के मनोविज्ञान को समझने और अपराध रोकने में सरकारी संगठनों का भरपूर सहयोग कर रहे हैं। एक साइकोलॉजिस्ट के तौर पर आप अपना निजी क्लीनिक भी खोल सकते हैं। भारत और एशिया के अन्य देशों में आने वाले समय में साइकोलॉजिस्ट प्रोफेशनल्स के लिए बेहतर भविष्य है।
क्लिनिकल साइकोलॉजिस्ट
इनका काम मेंटल और हेल्थ प्रॉब्लम्स को डील करना होता है। इनमें चिता, डिप्रेशन, रिलेशनशिप प्रॉब्लम, नशा और रिलेशनशिप आदि की समस्याओं का इलाज करना शामिल है।

काउंसलिग साइकोलॉजिस्ट
इनका काम मेंटल हेल्थ से जुड़ा होता है। ये उन कारणों का भी पता लगाते हैं, जिनसे मरीज को दिमागी समस्या हुई है।

एजुकेशनल साइकोलॉजिस्ट
बच्चे हों या बड़े, एजुकेशनल साइकोलॉजिस्ट सभी को समाज में बेहतर तरीके से रहने का तरीका सिखाता है। ये साइकोलॉजिस्ट खासतौर पर स्टडेंट्स को पढ़ाई के दौरान होने वाले तनाव को दूर करने में मदद करते हैं।

फोरेंसिक साइकोलॉजिस्ट
फोरेंसिक साइकोलॉजिस्ट के रूप में आप लीगल इश्यूज डील कर सकते हैं, मसलन- क्रिमिनल इनवेस्टीगेशन और क्रिमिनल बिहेवियर को समझने में आप पुलिस की मदद कर सकते हैं। साथ ही जेल जैसी जगहों पर अपराधियों को सुधारने में भी अहम भूमिका निभा सकते हैं।

हेल्थ साइकोलॉजिस्ट
अच्छी सेहत कैसे बरकरार रख सकते हैं, यह समझाना काम है एक हेल्थ साइकोलॉजिस्ट का। वह लोगों को स्मोकिग, स्किन केयर, सेफ सेक्स जैसी बातों के बारे में बताता है और स्वास्थ्य से जुड़ी आदतों से छुटकारा दिलाने में उनकी मदद करता है।

न्यूरो साइकोलॉजिस्ट
एक न्यूरो साइकोलॉजिस्ट साइकोलॉजी और न्यूरोसाइंस को मिलाकर काम करता है। वह ब्रेन और बिहेवियर का गंभीर अध्ययन करके एक मरीज की बीमारी के कारणों और उसके उपचार के बारे में कोई फैसला करता है। विजन, मेमरी, स्मैल, टेस्ट, डिप्रेशन, दिमागी चोट, नशा मुक्ति जैसी बीमारियों का उपचार न्यूरो साइकोलॉजिस्ट के पास होता है।

ऑक्यूपेशनल साइकोलॉजिस्ट
किसी कंपनी में कार्यरत लोगों को काम के प्रति किस तरह मोटिवेट करना है, उनका वर्किंग प्लेस कैसा हो जैसी प्रॉडक्टिव बातों पर गौर करते हैं।

चाइल्ड साइकोलॉजिस्ट
चाइल्ड साइकोलॉजिस्ट बनकर आप पैरंट्स की काफी मदद कर सकते हैं। इस तरह के प्रोफेशनलिस्ट्स का काम बच्चों के व्यवहार और तनाव से जुड़ी समस्याओं को दूर करना होता है।

टीचिग एंड रिसर्च
आप साइकोलॉजी में टीचिग या रिसर्च को भी कॅरिअर के रूप में चुन सकते हैं।

यूनिवर्सिटी ऑफ कैंब्रिज, इंग्लैंड
इस यूनिवर्सिटी में साइकोलाजिकल एंड बिहेवियूरल साइंस में तीन साल का ग्रेजुएशन कोर्स है, जिसमें पहले साल में साइकोलॉजी फंडामेंटल के साथ लैंग्वेज कम्यूनिकेशन, इवाल्यूशन एंड बिहेवियर के टॉपिक हैं, वहीं दूसरे साल में बायोलाजिकल एंथ्रापोलॉजी, न्यूरोबायोलॉजी और फिलास्फी और तीसरे साल में क्रिमिनोलॉजी, साइकोलॉजी से रिलेटेड पढ़ाई कराई जाती है। आपकी रुचि से सेलेक्टेड टॉपिक से शार्ट रिसर्च कराया जाता है। इस कोर्स के बाद आप चाहे तो यहीं से सइकोलॉजी में मास्टर की डिग्री कर सकते हैं, जो दो साल का है।
यूनिवर्सिटी ऑफ ऑक्सफोर्ड, इंग्लैंड
यहां पर एक्पेरिमेंटल साइकोलॉजी में एमएससी और डिफिल के अलग-अलग कोर्स उपलब्ध है। साथ ही चार साल का एमएससी के बाद डिफिल कंबाइड कोर्स की स्टडी भी होती है। साइकोलॉजी की पढ़ाई के लिए उम्दा जगह है।

न्यूयार्क यूनिवर्सिटी, अमेरिका
यहां मास्टर इन जनरल साइकोलॉजी में साइकोपैथोलॉजी, फॉरेंसिक साइकोलॉजी, डेवपलेपमेंटल साइकोलॉजी के कई कोर्स है। इसके अलावा मास्टर ऑफ आर्ट इंडस्टàीयल/ आर्गनाइजेश्नल साइकोलॉजी कोर्स भी है, यह एक नया कोर्स है, जिसमें किसी आर्गनाइजेशन में एंप्लाई के बीच टीम वर्क की भावना बढ़ाने, प्रोडक्शन आदि से संबंधित मानवीय स्किल्स बेहतर बनाने की स्टडी होती है। साइकोलॉजी में यहां से रिसर्च भी कर सकते हैं।
येल यूनिवर्सिटी, अमेरिका
यहां पर साइकोलॉजी के दो कोर्स उपलब्ध हैं, इनमें नेचुरल साइंस साइकोलॉजी और सोशल साइंस साइकोल्ॉजी सब्जेक्ट। नेचुरल साइंस में मास्टर कोर्स के तहत क्रिमिनोलॉजी साइकोलॉजी, लैंग्वेज ऑफ माइंड, बे्रन माइंड आदि टॉपिक को कवर किया जाता है। वहीं सोशल साइंस साइकोलॉजी में ह्यूमन बिहेवियर, चाइल्ड साइकोलॉजी, पॉलिटिकल साइकोलॉजी, इकोनॉमिकल साइकोलॉजी, मोरलिटी साइकोलॉजी आदि टॉपिक जुड़े हुए हैं। यहां पर साइकोलॉजी की पढ़ाई में व्यावहारिकता और सैद्धांतिक पक्ष में खासा ध्यान दिया जाता है। यहां पर एक क्लास 2० से अधिक स्टूडेंट्स नहीं होत्ो हैं।
महत्वपूर्ण बातें
अगर आप साइकोलॉजी में कॅरिअर बनाना चाहते हैं तो इस क्ष्ोत्र कदम रखने से पहले अपना आंकलन अवश्य कर लें। इसके लिए आप कॅरिअर काउंसिलिंग का सहारा ले सकते हैं, जहां पर इस क्ष्ोत्र के अन्य पहलूओं, आपकी इस क्ष्ोत्र में रुचि और झमता के बारे में पता चलेगा। इसके बाद सही संस्थान का चुनाव करें और वहां पर साइकोलॉजी में उपलब्ध प्रोग्राम और उसमें पढ़ाए जाने वाले टॉपिक के बारे में अधिक जानकारी हासिल कर लें, आप साइकोलॉजी के जिस फील्ड में कॅरिअर बनाना चाहते हैं, उसे पहले से चुन लें, मसलन न्यूरोसाइकोलॉजिस्ट, चाइल्डसाइकोलॉजिस्ट के तौर पर क्योंकि पहले से तय लक्ष्य आपको सही दिशा की ओर ले जाएगा।

 

शुक्रवार, 24 अप्रैल 2015

quiz

1. भारत ने किस देश के लोगों को 1० साल का वीजा देने का फैसला किया है?
 (क) फ्रांस (ख) कनाडा (ग) अमेरीका (घ) ब्राजिल
 2. कौन-सा देश पांच साल के लिए भारत को यूरेनियम की आपूर्ति करेगा?
 (क) चिली (ख) चीन (ग) कनाडा (घ) ब्राजिल
3. 'हेवेसी मैडल 2०15’ से किसे सम्मानित किया गया है?
(क) अनीता शर्मा (ख) सुशांता लाहिरी (ग) कादंबिनी सिह (घ) पूजा सिह
4. किस संगठन ने दक्षिण एशिया आर्थिक फोकस रिपोर्ट जारी की है?
 (क) विश्व व्यापार संगठन (ख) आईएमएफ (ग) एडीबी (घ) विश्व बैंक
5. सिक्किम उच्च न्यायालय की पहली महिला न्यायाधीश के रूप में किसे नियुक्त किया गया है?
 (क) पूजा मिश्रा (ख) स्मृति गुप्ता (ग) अपर्णा सिह (घ) मीनाक्षी मदन राय
6. नोबल पुरस्कार विजेता 'गुंटर ग्रास’ का हाल ही में निधन हो गया है, वह किस देश के नागरिक थे?
 (क) नीदर लैंड (ख) स्वीडन (ग) जर्मनी (घ) फè्रांस
7. पहली भारतीय टेनिस खिलाड़ी जिसने महिला युगल में प्रथम रैंक हासिल की है?
 (क) सारा ईरानी (ख) सानिया मिर्जा (ग) अंकिता भांबरी (घ) अंकिता राइना
8. किसने यमन के लिए संयुक्त राष्ट्र के शांति दूत ने इस्तीफा दे दिया है?
 (क) अब्राहिम लाहिड़ी (ख) कोफी अन्नान (ग) बिल क्लिंटन (घ) जमाल बेनोमार
9. जीतू राय किस खेल में भारत का प्रतिनिधित्व करते हैं?
 (क) बैडमिटन (ख) शूटिग (ग) टेनिस (घ) इनमें से कोई नहीं

1०. हाल ही में, लॉरियस अकादमी (Lथफन्द्गफप इदथदद्गद्बभ) में किसे शामिल किया गया है?
 (क) सचिन तेंदुलकर (ख) राहुल द्रविड़ (ग) विराट कोहली (घ) कोई नहीं



उत्तर: 1. (ख), 2. (ग), 3. (ख), 4. (घ), 5. (घ), 6. (ग), 7. (ख), 8. (घ), 9. (ख), 1०. (क) 

विदेश में साइकोलॉजी की पढ़ाई कर बनाए कॅरिअर

एब्रॉड एजुकेशन
अभिषेक कांत पाण्डेय


साइकोलॉजी सब्जेक्ट में शानदार कॅरिअर बनाने के लिए विदेशों में कई अच्छे संस्थान हैं। आज हर क्ष्ोत्र में साइकोलॉजिस्ट प्रोफेशनल्स की डिमांड बढ़ रही है, ऐसे में विदेशों में साइकोलॉजी की पढ़ाई का ट्रेंड भी बढ़ रहा है। साइकोलॉजी में नए कोर्स से लैस यूनिवर्सिटी विदेशी छात्रों खासकर भारतीय छात्रों को आकर्षित कर रही हैं।
----------------------------------------------------------------------------------

साइकोलॉजी सब्जेक्ट में कॅरिअर की बेहतर संभावनाएं हैं, आप इस सब्जेक्ट के जरिए हेल्थकेयर सेक्टर में सॉइकोलॉजिस्ट के तौर पर काम कर सकते हैं। सोशल सेक्टर जैसे एनजीओ में काउंसलर की डिमांड भी लगातार बढ़ रही है। अब तो स्कूल और कॉलेज में साइकोलॉजिस्ट रख्ो जाते हैं, जो स्टूडेंट की पढ़ाई से लेकर उनके विकास में आने वाली समस्याओं का समाधान करते हैं। क्रिमिनल साइकोलॉजी दूसरा सबसे बड़ा क्ष्ोत्र डेवलप हो रहा है, जहां पर क्रिमिनल साइकोलोजिस्ट आपराधी के मनोविज्ञान को समझने और अपराध रोकने में सरकारी संगठनों का भरपूर सहयोग कर रहे हैं। एक साइकोलॉजिस्ट के तौर पर आप अपना निजी क्लीनिक भी खोल सकते हैं। भारत और एशिया के अन्य देशों में आने वाले समय में साइकोलॉजिस्ट प्रोफेशनल्स के लिए बेहतर भविष्य है।
क्लिनिकल साइकोलॉजिस्ट
इनका काम मेंटल और हेल्थ प्रॉब्लम्स को डील करना होता है। इनमें चिता, डिप्रेशन, रिलेशनशिप प्रॉब्लम, नशा और रिलेशनशिप आदि की समस्याओं का इलाज करना शामिल है।

काउंसलिग साइकोलॉजिस्ट 
इनका काम मेंटल हेल्थ से जुड़ा होता है। ये उन कारणों का भी पता लगाते हैं, जिनसे मरीज को दिमागी समस्या हुई है।

एजुकेशनल साइकोलॉजिस्ट 
बच्चे हों या बड़े, एजुकेशनल साइकोलॉजिस्ट सभी को समाज में बेहतर तरीके से रहने का तरीका सिखाता है। ये साइकोलॉजिस्ट खासतौर पर स्टडेंट्स को पढ़ाई के दौरान होने वाले तनाव को दूर करने में मदद करते हैं।

फोरेंसिक साइकोलॉजिस्ट 
फोरेंसिक साइकोलॉजिस्ट के रूप में आप लीगल इश्यूज डील कर सकते हैं, मसलन- क्रिमिनल इनवेस्टीगेशन और क्रिमिनल बिहेवियर को समझने में आप पुलिस की मदद कर सकते हैं। साथ ही जेल जैसी जगहों पर अपराधियों को सुधारने में भी अहम भूमिका निभा सकते हैं।

हेल्थ साइकोलॉजिस्ट 
अच्छी सेहत कैसे बरकरार रख सकते हैं, यह समझाना काम है एक हेल्थ साइकोलॉजिस्ट का। वह लोगों को स्मोकिग, स्किन केयर, सेफ सेक्स जैसी बातों के बारे में बताता है और स्वास्थ्य से जुड़ी आदतों से छुटकारा दिलाने में उनकी मदद करता है।

न्यूरो साइकोलॉजिस्ट 
एक न्यूरो साइकोलॉजिस्ट साइकोलॉजी और न्यूरोसाइंस को मिलाकर काम करता है। वह ब्रेन और बिहेवियर का गंभीर अध्ययन करके एक मरीज की बीमारी के कारणों और उसके उपचार के बारे में कोई फैसला करता है। विजन, मेमरी, स्मैल, टेस्ट, डिप्रेशन, दिमागी चोट, नशा मुक्ति जैसी बीमारियों का उपचार न्यूरो साइकोलॉजिस्ट के पास होता है।

ऑक्यूपेशनल साइकोलॉजिस्ट 
किसी कंपनी में कार्यरत लोगों को काम के प्रति किस तरह मोटिवेट करना है, उनका वर्किंग प्लेस कैसा हो जैसी प्रॉडक्टिव बातों पर गौर करते हैं।

चाइल्ड साइकोलॉजिस्ट 
चाइल्ड साइकोलॉजिस्ट बनकर आप पैरंट्स की काफी मदद कर सकते हैं। इस तरह के प्रोफेशनलिस्ट्स का काम बच्चों के व्यवहार और तनाव से जुड़ी समस्याओं को दूर करना होता है।

टीचिग एंड रिसर्च 
आप साइकोलॉजी में टीचिग या रिसर्च को भी कॅरिअर के रूप में चुन सकते हैं।

यूनिवर्सिटी ऑफ कैंब्रिज, इंग्लैंड
इस यूनिवर्सिटी में साइकोलाजिकल एंड बिहेवियूरल साइंस में तीन साल का ग्रेजुएशन कोर्स है, जिसमें पहले साल में साइकोलॉजी फंडामेंटल के साथ लैंग्वेज कम्यूनिकेशन, इवाल्यूशन एंड बिहेवियर के टॉपिक हैं, वहीं दूसरे साल में बायोलाजिकल एंथ्रापोलॉजी, न्यूरोबायोलॉजी और फिलास्फी और तीसरे साल में क्रिमिनोलॉजी, साइकोलॉजी से रिलेटेड पढ़ाई कराई जाती है। आपकी रुचि से सेलेक्टेड टॉपिक से शार्ट रिसर्च कराया जाता है। इस कोर्स के बाद आप चाहे तो यहीं से सइकोलॉजी में मास्टर की डिग्री कर सकते हैं, जो दो साल का है।
यूनिवर्सिटी ऑफ ऑक्सफोर्ड, इंग्लैंड
यहां पर एक्पेरिमेंटल साइकोलॉजी में एमएससी और डिफिल के अलग-अलग कोर्स उपलब्ध है। साथ ही चार साल का एमएससी के बाद डिफिल कंबाइड कोर्स की स्टडी भी होती है। साइकोलॉजी की पढ़ाई के लिए उम्दा जगह है।

न्यूयार्क यूनिवर्सिटी, अमेरिका
यहां मास्टर इन जनरल साइकोलॉजी में साइकोपैथोलॉजी, फॉरेंसिक साइकोलॉजी, डेवपलेपमेंटल साइकोलॉजी के कई कोर्स है। इसके अलावा मास्टर ऑफ आर्ट इंडस्टàीयल/ आर्गनाइजेश्नल साइकोलॉजी कोर्स भी है, यह एक नया कोर्स है, जिसमें किसी आर्गनाइजेशन में एंप्लाई के बीच टीम वर्क की भावना बढ़ाने, प्रोडक्शन आदि से संबंधित मानवीय स्किल्स बेहतर बनाने की स्टडी होती है। साइकोलॉजी में यहां से रिसर्च भी कर सकते हैं।
येल यूनिवर्सिटी, अमेरिका
यहां पर साइकोलॉजी के दो कोर्स उपलब्ध हैं, इनमें नेचुरल साइंस साइकोलॉजी और सोशल साइंस साइकोल्ॉजी सब्जेक्ट। नेचुरल साइंस में मास्टर कोर्स के तहत क्रिमिनोलॉजी साइकोलॉजी, लैंग्वेज ऑफ माइंड, बे्रन माइंड आदि टॉपिक को कवर किया जाता है। वहीं सोशल साइंस साइकोलॉजी में ह्यूमन बिहेवियर, चाइल्ड साइकोलॉजी, पॉलिटिकल साइकोलॉजी, इकोनॉमिकल साइकोलॉजी, मोरलिटी साइकोलॉजी आदि टॉपिक जुड़े हुए हैं। यहां पर साइकोलॉजी की पढ़ाई में व्यावहारिकता और सैद्धांतिक पक्ष में खासा ध्यान दिया जाता है। यहां पर एक क्लास 2० से अधिक स्टूडेंट्स नहीं होत्ो हैं।

महत्वपूर्ण बातें
अगर आप साइकोलॉजी में कॅरिअर बनाना चाहते हैं तो इस क्ष्ोत्र कदम रखने से पहले अपना आंकलन अवश्य कर लें। इसके लिए आप कॅरिअर काउंसिलिंग का सहारा ले सकते हैं, जहां पर इस क्ष्ोत्र के अन्य पहलूओं, आपकी इस क्ष्ोत्र में रुचि और झमता के बारे में पता चलेगा। इसके बाद सही संस्थान का चुनाव करें और वहां पर साइकोलॉजी में उपलब्ध प्रोग्राम और उसमें पढ़ाए जाने वाले टॉपिक के बारे में अधिक जानकारी हासिल कर लें, आप साइकोलॉजी के जिस फील्ड में कॅरिअर बनाना चाहते हैं, उसे पहले से चुन लें, मसलन न्यूरोसाइकोलॉजिस्ट, चाइल्डसाइकोलॉजिस्ट के तौर पर क्योंकि पहले से तय लक्ष्य आपको सही दिशा की ओर ले जाएगा।

शुक्रवार, 17 अप्रैल 2015

Quiz in hindi for Competition

1. खादी और ग्रामोद्योग आयोग के सीईओ के रूप में किसे नियुक्त किया गया है?
 (क) राकेश तिवारी (ख) अजय सिह (ग) अरुण कुमार झा (घ) प्रदीप मिश्रा
2. नए मुख्य चुनाव आयुक्त किसे चुना गया है?
(क) नसीम जैदी (ख) एच. एस. ब्रह्मा (ग) पी. के. मिश्रा (घ) ए. पी. सिंह
3. किस शहर को डब्ल्यूडब्ल्यूएफ द्बारा अक्षय ऊर्जा के क्षेत्र में अच्छा प्रदर्शन के लिए सम्मानित किया गया है?
 (क) चंडीगढ़     (ख) जयपुर     (ग) पुणे    (घ) राजकोट
4. बीसीसीआई ने निम्नलिखित में से किसे आईपीएल संचालन परिषद का अध्यक्ष नियुक्त किया गया है?
(क) सौरव गांगुली    (ख) राजीव शुक्ला     (ग) सचिन तुेंदुलकर    (घ) जगमोहन डालमिया
5. वर्ष 2०14-15 की सैयद मुश्ताक अली ट्वेंटी-2० क्रिकेट टàाफी किस राज्य ने जीती?
(क) गुजरात    (ख) मध्य प्रदेश     (ग) हरियाणा    (घ) पंजाब
6. अजय शंकर समिति केंद्र सरकार द्बारा किस प्रयोजन के लिए स्थापित की गई है?
 (क) वित्तीय समावेशन (ख) रेल के निजीकरण के लिए (ग) उद्योग के लिए मंजूरी को सरल बनाने के लिए
     (घ) महिलाओं की सुरक्षा

7. भारत की पहली स्वदेशी तकनीक से निर्मित पनडुब्बी का नाम क्या है?
(क) स्कॉर्पियन (ख) टाइगर सेंचुरी (ग) स्पार्क (घ) विक्रांत फाइटर
8. प्रसिद्ध व्यक्तित्व 'जयकांतन’ का निधन हो गया है, वह किस क्ष्ोत्र के लिए प्रसिद्ध थ्ो?
 (क) फिल्म निर्देशक    (ख) फोटोग्राफर (ग) गायक (घ) तमिल लेखक
9. निर्वाचन आयोग का प्रावधान संविधान के किस अनुच्छेद के तहत दिया जाता है?
 (क) 123    (ख) 343    (ग) 311    (घ) 324
1०. भारतीय उद्योग परिसंघ (सीआईआई) के नए अध्यक्ष किसे नियुक्त किया गया है?
 (क)सुनील मित्तल    (ख)सुमित मजूमदार    (ग) रतन टाटा     (घ) मुकेश अंबानी


 उत्तर: 1. (ग), 2. (क), 3. (घ), 4. (ख), 5 (क), 6. (ग), 7 (क), 8. (घ), 9. (घ), 1०. (ख)





 

कॅरिअर एडवाइस

कॅरिअर एडवाइस
मैं बीएससी की पढ़ाई कर रहा हूं। बीएससी करने के बाद मुझे जॉब पाने के लिए क्या करना चाहिए?
अंकित सोनी

आपके सवाल से यह पता नहीं चल रहा है कि आप किस विषय में बीएससी कर रहे हैं। बीएससी के बाद आप चाहे तो आगे पढ़ाई कर सकते हैं, गवर्मेंट जॉब की तैयारी भी कर सकते हैं या प्राइवेट जॉब के लिए एप्?लाई कर सकते हैं। वैसे यह इस पर निर्भर करता है कि आप अपने कॅरिअर में क्?या करना चाहते हैं। अगर आप सरकारी नौकरी करना चाहते हैं तो आपके पास रेलवे, बैंक, डिफेंस और सिवलि सर्विस एग्जाम देने का ऑप्?शन है। प्राइवेट सेक्टर में बीएससी के बाद ज्?याद अच्छे ऑप्शन नहीं हैं। ऐसे में मेरी सलाह है कि आपको आगे पढ़ाई करनी चाहिए। अगर बीएससी में आपके पास मैथ्स है तो आप एमसीए कर सकते हैं। अगर बायो, फॉरेस्ट्री, जूलॉजी जैसे सब्जेक्ट हैं तो आप इनसे संबंधित प्रोफेशनल कोर्स भी कर सकते हैं। अगर आप मैनेजमेंट में कॅरिअर बनाना चाहते हैं तो आपके पास एमबीए करने का ऑप्?शन भी है। अगर आप स्कूल टीचर बनना चाहते हैं तो बीएड में एडमिशन ले लें। वैसे एमएसी करने के बाद अगर आप एमफिल और पीएचडी करने के साथ ही नेट क्वालिफाई कर लेते हैं तो आप सरकारी और प्राइवेट कॉलेज में लेक्चरार भी बन सकते हैं।



एमसीए करने के बाद मैं सरकारी क्षेत्र में जॉब करना चाहता हूं, इसके लिए मुझे क्या करना होगा? मुझे इंग्लिश कम्यूनिकेशन में समस्या आती है, इसे कैसे इम्प्रूव करूं?
नीरज सोलंकी, भोपाल

एमसीए करने के बाद आपके लिए प्राइवेट और सरकारी दोनों क्ष्ोत्र में संभावनाएं हैं, सरकारी क्षेत्र में एमसीए डिग्री होल्डर की वैकेंसी समय-समय पर निकलती है। मिनिस्ट्री ऑफ डिफेंस, इनकम टेक्स, बैंक, रेलवे आदि में वैकेंसी आती रहती है। इसके अलावा सरकारी क्षेत्र के महारत्न कंपनी भारत हैवी इलेक्टिकल लि., कोल इंडिया लि., गेल लि., एनटीपीसी आदि में एमसीए प्रोफेशनल्स की डिमांड रहती है। यहां पर चयन टेस्ट और इंटरव्यू के माध्यम से होता है, जॉब की सूचना के लिए इनकी आधिकरिक वेबसाइट को देखते रहें। अगर आपकी रुचि टीचिंग के क्षेत्र में है तो आप नेट क्वालिफाई कर लेक्चरार बन सकते हैं, इसके अलावा आप चाहे तो गवर्नमेंट इंटर कॉलेज में कंप्यूटर टीचर बनने के रास्ते भी खुले हैं।
इंग्लिश कम्यूनिकेशन को इम्प्रूव करने के लिए आप इंग्लिश का शब्दज्ञान बढ़ाएं, इंग्लिश मैग्जीन रेगूलर पढ़ंे, दोस्तों के साथ इंग्लिश बोलने का प्रयास करें, जितना आप इंग्लिश बोलेंगे और सुनेंगे उतनी ही आपकी इंग्लिश कम्यूनिकेशन में सुधार होगा। आप चाहे तो इंग्लिश इम्प्रूव करने के लिए एप की मदद ले सकते हैं, जिसे फ्री में डाउनलोड करके अपने मोबाइल से अपनी इंग्लिश इम्प्रूव कर सकते हैं।
मैं बारहवीं का स्टूडेंट हूं, कॅरिअर को लेकर मैं परेशान हूं, मुझे सॉफ्टवेयर डेवलपर बनना है, इसके लिए मुझे क्या करना चाहिए?
सौरभ जोशी, सतना

कॅरिअर को सही दिशा देने के लिए बारहवीं से सोचना सही है लेकिन अधिक चिंता करने की जरूरत नहीं है। सही दिशा में किया गया प्रयास सफलता जरूर दिलाता है। ये अच्छी बात है कि आपने तय कर लिया है कि आप सॉफ्टवेयर डेवलपर बनना चाहते हैं। 2०2० तक भारत विश्व का सॉफ्टवेयर सुपर पावर बन सकता है। ऐसे में आने वाले समय में प्रोफेशनल सॉफ्टवेयर डेवलपर्स काफी डिमांड में रहेंगे। इस क्षेत्र में स्किल्स सॉफ्टवेयर डेवलपर कस्टमर की जरूरतों के अनुसार कंप्यूटर प्रोग्रामिग या सॉफ्टवेयर डेवलप करता है। ऐसे में सॉफ्टवेयर डेवलपर में स्ट्रॉन्ग कंप्यूटर प्रोग्रामिग स्किल्स, एनालिटिकल स्किल्स, क्रिएटिविटी, कम्युनिकेशन स्किल्स, डिटेल ओरिएंटेड, कस्टमर सर्विस स्किल्स, प्रॉबल्म सॉल्विंग स्किल्स और इंटर-पर्सनल स्किल्स होना जरूरी है। इसके साथ ही हर दिन सॉफ्टवेयर इंडस्ट्री में आने वाले बदलाव से अपडेट रहना और इनोवेटिव सॉफ्टवेयर डेवलप करने के लिए रिसर्च की हैबिट जरूरी है। आप इंटर के बाद सॉफ्टवेयर डेवलपर का कोर्स कर सकते हैं।
प्रमुख कोर्स
-बीएससी इन कंप्यूटर साइंस
-बैचलर इन सॉफ्टवेयर इंजीनियरिग
-बैचलर ऑफ कंप्यूटर एप्लीकेशन
-सर्टिफिकेट प्रोग्राम इन मैनेजमेंट ऑफ सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट
एलिजिबिलिटी
कंप्यूटर साइंस या सॉफ्टवेयर इंजीनियरिग के बैचलर डिग्री में एनरोलमेंट के लिए मैथ्स और साइंस सब्जेक्ट में 12वीं की डिग्री होनी चाहिए।
इंस्टीट्यूट
-इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट, कोलकाता
द्धप्प्ध्://nद्बद्बप्द्बद्बध्द्गन्द्बथ.दधद्ब/
-आइआइटी, दिल्ली, चेन्नई, कानपुर, बॉम्बे, रुड़की, गुवाहाटी
बबब.द्बद्बप्द.थद.द्बn/
-इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ इंफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी, इलाहाबाद बबब.द्बद्बद्बप्थ.थद.द्बn/

Books and Writers name for Gk

1. सर्कल ऑफ द रिजन: अमिताभ घोष
2. डेवलपमेंट एज फ्रीडम: अमत्र्य सेन
3. डिवाइन लाइफ: शिवानंद
4. डस्ट ऑफ द रोड: महाश्वेता देवी
5. इंडिका: मैगेस्थनीज
6. जलसाघर: ताराशंकर बंदोपध्याय
7. मृत्युहीन: बिमल मित्रा
8. वन नाइट एट द कॉल सेंटर: चेतन भगत
9. पदचिह्न: ताराशंकर बंदोपध्याय
1०. पैराडाइज लूस्ट: सरत चंद्र चSोपध्याय
11. नील दर्पण: नीलबंधु मित्रा
12. पाथर पंचाली: बिभूति भूषण बंदोपध्याय
13. रुदाली: महाश्वेता देवी
14. साहेब बीबी गुलाम: बिमल मित्रा
15. द इंडियन स्ट्रगल: सुभाषा चंद्र बोस
16. द जजमेंट: कुल्दीप नय्यर
17. द लो लैंड: झुम्पा लहिड़ी
18. द लाइव्स ऑफ अदर: नील मुखर्जी
19. अन टू द लास्ट: जॉन रस्किन
2०. वाइसेस इन द सिटी: अनिता देसाई

भारतीय वायु सेना में समूह 'ग’ की भर्ती


एग्जाम वॉच



भारतीय वायु सेना में समूह 'ग’ के सैकड़ों ?रिक्त पदों पर नियुक्ति करने के लिए विज्ञप्ति जारी की है। इन पदों में फायरमैन, मेस कर्मचारी, रसोईया, धोबी, बढ़ई, पेंटर, मरम्मतकर्ता, एमटीएस, इलेक्ट्रिशियन, फिटर, टेलीफोन ऑपरेटर, भंडारपाल, अधीक्षक, राडार मैकेनिक, प्रयोगशाला सहायक, क्लर्क, आशुलिपिक ग्रेड-II, गोला-बारूद ड्यूटी पर श्रमिक, सिविलियन यांत्रिक परिवहन चालक इत्यादि के पद शामिल हैं। परीक्षा की तैयारी और आवेदन कैसे भरें, यहां पूरी जानकारी दी जा रही है-
--------------------------------------------------------------------------------------------

उम्र सीमा

इन सभी पदों पर आवेदन करने के लिए न्यूनतम आयु सीमा 18 वर्ष निर्धारित की गई है। अधिकतम आयु पदों के अनुसार अलग-अलग है। अश्रेलि, फायरमैन और आशुलिपिक ग्रेड-II के लिए अधिकतम आयु 27 वर्ष तथा अन्य शेष पदों के लिए अधिकतम आयु 25 वर्ष है। आयु सीमा में अन्य पिछड़ा वर्ग के उम्मीदवारों को 3 वर्ष, अनुसूचित जाति / जनजाति के आवेदकों को 5 वर्ष की छूट प्रदान की जाएगी। सभी पदों के लिए शैक्षिक योग्यता अलग-अलग निर्धारित ?की गई है।

अंतिम तिथि
इन पदों पर आवेदन करने के लिए आवेदन पत्र को निर्धारित प्रारूप में भरे और मांगे गए सभी प्रमाणपत्रों की सत्यापित प्रति के साथ अपनी पसंद के वायु सेना केंद्र के निर्धारित पते पर अंतिम तिथि से पूर्व भेजें। विज्ञापित पदों पर आवेदन करने की अंतिम तिथि 27 अप्रैल, 2०15 निर्धरित की गई है। अधिक जानकारी के लिए द्धप्प्ध्://बबब.दथफ्ध्.nद्बद.द्बn वेबसाइट देख्ों।

परीक्षा की तैयारी कैसे करें


इन पदों पर चयन लिखित परीक्षा और व्यावहारिक परीक्षा / शारीरिक परीक्षा अथवा साक्षात्कार के आधार पर किया जाएगा।
लिखित परीक्षा में सामान्य बुद्धिमत्ता एवं तर्कशक्ति, अंकीय अभिक्षमता, सामान्य अंग्रेजी और सामान्य जागरूकता को परखा जाएगा। एयर फोर्स की परीक्षा में कम से कम 1०० बहुविकल्पी सवाल पूछे जाते हैं। जिसमें सभी टॉपिक से सामान्या सवाल पूछे जाते हैं। त्ौयारी के लिए इतिहास, विज्ञान, अर्थशास्त्र, भूगोल, नागरिक शास्त्र के बनने वाले जनरल क्यूश्चन को ध्यान से पढ़ें, वर्तमान में घटने वाली घटना को जोड़कर भी क्यूश्चन पूछे जाते हैं। इसकी तैयारी के लिए डेली न्यूज पेपर पढ़ें, सामान्य ज्ञान की अच्छी संकलन वाली गाइड से अध्ययन करना फायदेमंद है। प्रतिशता, अनुपात-समानुपात, लाभ-हानि, दूरी-समय, ब्याज से ज्यादातर बनने वाले गणित के सामान्य प्रश्न टॉपिक से अधिक पूछे जाते हैं, इसलिए इन टॉपिक को अच्छे से कवर करें। अंग्रेजी के अधिकांश क्यूश्चन वर्ड पावर, पार्ट ऑफ स्पीच, एक्टिव वाइस-पैसिव वाइस, पैसेज आदि से आते हैं, इसकी तैयारी के लिए हाईस्कूल स्तर की अंग्रेजी ग्रामर की बुक कारगर साबित होगी। सामान्य बुद्धिमत्ता एवं तर्कशक्ति से कोडिंग-डिकोडिंग, रिलेशनशिप, मिरर, मिसिंग नंबर आदि से जनरल क्यूश्चन होते हैं, इसके लिए इस तरह की प्रतियोगी परीक्षा में पूछे गए प्रश्नों को खूब हल करें। इसके साथ ही जिस पद के लिए आवेदन कर रहे हैं, उस पद से संबंधित प्रश्न पूछे जाते हैं। जिन पदों के लिए शारीरिक परीक्षा की आवश्यकता है, उनमें शारीरिक दक्षता परीक्षण भी किया जाएगा।

साक्षात्कार की तैयारी कैसे करें

साक्षात्कार में सामान्य अभिरुचि, योग्यता और आपके प्वाइंट ऑफ व्यू को चेक किया जाएगा। इसकी तैयारी के लिए आप आपने एकेडिमिक रिकार्ड के अनुसार पढ़े गए विषयों को अच्छे से तैयार कर लें, मसलन इंटर, स्नातक, डिप्लोमा आदि में लिए गए सब्जेक्ट को भी तैयार कर लें। साक्षात्कार के समय जिस सवाल का उत्तर न आता हो तो गोलमोल जवाब न दें, इससे आपके प्रति गलत धारणा बन सकती है। ईमानदारी और आत्मविश्वास के साथ सवाल का जवाब दें। इन पदों के लिए अभी परीक्षा तिथि की घोषणा नहीं की गई हैं, संभवत: आवेदन की अंतिम तिथि के एक से दो महीने के बीच परीक्षा और साक्षात्कार दोनों अलग-अलग तिथि में हो सकता है। लिखित परीक्षा में निर्धारित कटऑफ या मेरिट में आने पर साक्षात्कार के बुलाया जाता है, हो सकता है कि लिखित परीक्षा और साक्षात्कार के बीच कुछ ही दिनों का अंतर रहे, इसलिए साक्षात्कार की तैयारी भी अभी से करना शुरू कर दें, जिससे कि अंतिम चयन में आपको सफलता मिल जाए।

वेतनमान
वेतनमान के तौर पर चयनित उम्मीदवारों को 5,2०० - 2०,2०० रुपये तथा ग्रेड पे पदों के अनुसार 18०० / 19०० /24०० रुपये दिया जाएगा।
 

Important Question for competition in Hindi

1. हिंदी के किस साहित्यकार ने अपना उपनाम 'सितारे हिंद’ रखा था?
उत्तर: राजा शिवप्रसाद
2. भारत में सबसे प्राचीन पर्वत श्रृंखला कौन-सी है?
उत्तर: अरावली
3. कोणार्क का सूर्य मंदिर किस प्रदेश में स्थित है?
उत्तर: उड़ीसा
4. खाने-पीने की वस्तुओं के लिए पैकिंग शीट किस धातु से बनाई जाती है?
उत्तर: एल्युमिनियम
5. पानीपत की तीसरी लड़ाई किसके बीच हुई थी?
उत्तर: अहमद शाह अब्दाली और मराठों के बीच, सन् 1761 ई. में।
6. सन् 1913 ई. में किस भारतीय को नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया था?
उत्तर: रवींद्रनाथ टैगोर को साहित्य में नोबेल पुरस्कार दिया गया था।
7. एक हार्स पावर कितने वॉट के बराबर होता है?
उत्तर: 746 वॉट
8. 'ग्रीन हाऊस इफैक्ट’ में कौन-सी गैस प्रभावी होती है?
उत्तर: कार्बनडाई ऑक्साइड
9. पृथ्वी की कौन-सी परत सूर्य की 'अल्ट्रा वॉयलेट’ किरणों से हमें बचाती है?
उत्तर: ओजोन परत
1०. सिंधु घाटी सभ्यता के लोग किस देवता की पूजा करते थे?
उत्तर: पशुपति

बुधवार, 15 अप्रैल 2015

प्यार की नहीं होती कोई उम्र

दांपत्य
रिंकी पाण्डेय



जब आपकी शादी हुई थी उस दिन और उसके बाद आज का समय, बहुत कुछ बदल गया होगा। शादी के उन पलों को जब आप याद करती हैं तो एक खुशनुमा अहसास आपके सामने होता है। जिंदगी के नए सफर के उन शुरुआती दिनों में आप पति-पत्नी के बीच प्यार ही प्यार भरा रहा, लेकिन अब शादी के कुछ सालों बाद जिंदगी बोरिंग-सी लगने लगी। बस काम और जिम्मेदारियों के बीच चलती जिंदगी के में पति का वैसा रिस्पोंस नहीं मिल रहा जैसा शादी के समय था। आखिर इसके पीछे कारण क्या है, क्यों प्यार कम होने लगा, जरूर कोई न कोई कारण होगा? आप इन कारणों को जान लें और फिर अपने स्तर से सुधार कर लें तो आपके दांपत्य में प्यार ही प्यार भर जाएगा।

एक-दूसरे की आलोचना क्यों
पति-पत्नी के बीच शिकायतें होती हैं तो दांपत्य संबंधों में खटास उत्पन्न हो जाती है। बात-बात में एक दूसरे की कमियां निकालना, खान-पान, पहनावा, पसंद-नापसंद पर बार-बार नुक्ताचीनी करने से आप दोनों के बीच अंडरस्टैंडिंग खत्म हो जाती है। एक-दूसरे के प्रति आत्मियता का अभाव पैदा होने लगता है, फिर एक-दूसरे की आलोचना किसी और के सामने करने से विश्वास की डोर डगमगाने लगती है। इस तरह की स्थिति में अपने को संभालें आप पति की आलोचना न करें बल्कि समझदारी दिखाएं और पति से बात करें और उन्हें समझे क्या प्राबलम्स हैं। यकीन मानिये जब हम एक-दूसरे की आलोचना करने लगते हैं तो हमारे बीच सहज रिश्ता नहीं रह जाता है। इसका फायदा कोई तीसरा उठा सकता है और आपके बीच कानाफूसी करके आपके रिश्ते में दरार पैदा कर देता है। ऐसी नौबत न आए आप संभल जाएं और एक-दूसरे के प्रति हुई गलतफहमी को बातचीत के माध्यम से दूर कर लें।

मजबूत करें विश्वास की डोर
आप दोनों के बीच विश्वास की नींव मजबूत रहे इसके लिए पति पर संदेह न करें, बल्कि मधुर संबध बनाए, उनके अच्छे काय्रों की प्रशंसा करें। विश्वास जताएं, किसी समस्या होने पर आप उनकी बात ध्यान से सुने और सही रास्ता सुझाने में सहयोग करें। किसी अन्य की उड़ी-उड़ाई बातों पर यकीन न करें। पति के मन की बात जानें और इस बात का अहसास दिलाएं कि हर वक्त आप उनके साथ हैं। दांपत्य जीवन में विश्वास की डोर मजबूत रहेगी तो आपकी जिंदगी में आकर्षण और प्यार की भावना फिर से प्रबल होगी।

सीमित संसाधनों का रोना न रोये
दांपत्य जीवन में आकर्षण और प्यार बना रहे इसके लिए आप एक-दूसरे का सम्मान करें। आपसी विचार-विमर्श करके ही कोई फैसला करें, बेवजह के अपने फै सले थोपे न बल्कि जो उचित हो और जिस पर आप दोनों की सहमति हो वह कार्य करें। संसाधन सीमित हो सकते हैं लेकिन खुशियां सीमित न होने दें। मकान छोटा है तो क्या जिंदगी में हमें छोटी-छोटी खुशियों को कैद करना सीखना चाहिए, यही जिंदगी है। अभाव को प्रभावी न होनी दें, संसाधन समय के साथ जुटाए जा सकते हैं लेकिन सीमित संसाधनों का रोना-रोकर आप अपनी जिंदगी में तनाव न लाएं, पति को समझने की कोशिश करें कि अगर प्रेम और खुशियों के बीच आप होंगे तो बड़ी-सी बड़ी सुविधाएं जुटाने में समय नहीं लगेगा।

प्रेम की करें बातें
आप दोनों के बीच प्रेम-संबध बना रहे इसके लिए आप दोनों प्रेम की बातें करें, इससे आपके रिश्तों में फिर से एक नई ताजगी आएगी। शादी के शुरुआती दिनों की तरह आप बेफिक्र प्रणय-निवेदन करें, संकोच न करें क्योंकि प्रेम की यह बातें साथी को अच्छी लगेंगी। कुछ ही पलों में आप दोनों पहले के अहसास को जीने लगेंगे, कुछ पल का यह अनुभव अलहड़ लग सकता है लेकिन शादी के इतने सालों में इस तरह की बातों के न होने से जिस तरह की नीरसता आपके जीवन में आ गई उसे दूर करने के लिए यह करना जरूरी है। प्रेम में उम्र की गंभीरता न आने दें, पति-पत्नी के मध्य प्रणय में हास्य, मजाक और एक दूसरे की खिंचाई ही प्रेम के रस को घोलता है। उम्र की गंभीरता को अपने जीवन में बाधा न बनने दें, शर्म छोड़े और पति के साथ उन दिनों के पल को फिर से जीने की एक नई शुरुआत करें।

शुक्रवार, 10 अप्रैल 2015

Quiz in hindi

1. मिजोरम का राज्यपाल किसे नियुक्त किया गया है?
 (क) विजय गोयल    (ख) के.एन.त्रिपाठी    (ग) के.एम.मुन्शी        (घ) किरण बेदी

2. हाल ही में भारत सरकार द्बारा शुरू किया गया 'आपरेशन राहत’ किससे संबंधित है?
(क) जम्मू-कश्मीर में राहत अभियान    (ख) यमन से भारतीय नागरिक की निकासी     (ग) अचानक बारिश से किसान की पीड़ा के लिए राहत अभियान    (घ) इनमें से कोई भी नहीं   
3. किस भारतीय खिलाड़ी के नाम पर एक ग्रह(ध्द्यथnद्गप्) का नाम दिया गया है?
 (क) विराट कोहली    (ख) साइना नेहवाल    (ग) सचिन तेंदूलकर    (घ) विश्वनाथन आनंद   
4. भारत के पहले साइबर सुरक्षा प्रमुख के रूप में किसे नियुक्त किया गया है?
 (क) ए. पी. सिह        (ख) गुलशन राय        (ग) अजीत दोवल        (घ) पंकज सिह
5. 2०16 में ओलंपिक खेलों का आयोजन कहां किया जा रहा हैं?
 (क) ब्राजिल    (ख) जापान    (ग) यूके    (घ) जर्मनी
6. निर्भया कोष किस के लिए शुरू किया गया है?
 (क) पेंशन क्षेत्र    (ख) महिलाओं की सुरक्षा        (ग) माइक्रोफाइनेंस    (घ) खाद्य सुरक्षा   
7. किस राज्य सरकार ने 'ई- विधान मोबाइल एप्लिकेशन’ का शुभारंभ किया है?
 (क) हरियाणा    (ख) नई दिल्ली    (ग) हिमाचल प्रदेश    (घ) जम्मू और कश्मीर   
8. 'हॉकी इंडिया 2०15’ में मेजर ध्यानचंद लाइफटाइम अचीवमेंट पुरस्कार से किसे सम्मानित किया गया है?
 (क) बलबीर सिह सीनियर    (ख) जीशान अली    (ग) गिरिराज सिह    (घ) गुरुमैल सिह   
9. भूकंपीय गतिविधियों पर नजर रखने के लिए चुंबकीय वेधशाला का किस जगह पर उद्घाटन किया गया है?
 (क) नई दिल्ली    (ख) देहरादून    (ग) भोपाल    (घ) पोर्ट ब्लेयर   
1०. जनरल मुहम्मद भुहरी किस देश के राष्ट्रपति निर्वाचित किए गए हैं?
 (क) नामीबिया    (ख) नाइजीरिया        (ग) सीरिया     (घ) ईराक

उत्तर: 1. (ख), 2. (ख), 3. (घ), 4. (ख), 5. (क), 6. (ख), 7. (ग), 8. (क), 9. (घ), 1०. (ख)
 

important question

1. भारत की संसद किनसे मिलकर बनती है?
उत्तर: राष्ट्रपति, राज्यसभा व लोकसभा

2. राज्यसभा के सदस्यों का कार्यकाल कितना होता है?
उत्तर: छह वर्ष

3. संविधान के किस अनुच्छेद के तहत उपराष्ट्रपति निर्वाचन होता है?
उत्तर: अनुच्छेद 63


4. संविधान में उपराष्ट्रपति से संबंधित प्रावधान किस देश के संविधान से लिया गया है?

उत्तर: अमेरिका के संविधान से

5. राज्यसभा के सदस्यों की अधिकतम संख्या कितनी हो सकती है?

उत्तर: 25०

6. लोकसभा में राष्ट्रपति द्बारा कितने सदस्य मनोनित किए जाते हैं?

उत्तर: दो

7. राज्यसभा में राष्ट्रपति द्बारा कितने सदस्य मनोनित किए जाते हैं?

उत्तर:12

8. ईस्ट इंडिया कंपनी के भारत आने के समय भारत में किस बादशाह का शासन था?
उत्तर: जहांगीर

9. ईस्ट इंडिया कंपनी को भारत में व्यापार करने की अनुमति किस सन में मिली?
उत्तर: 615 ई.

1०. ईस्ट इंडिया कंपनी ने भारत में पहला व्यापारिक केंद्र किस स्थान पर स्थापित किया?
उत्तर: सूरत
 

book and writers name for GK

1. दीपशिखा: महादेवी वर्मा
2. न्यू इंडिया: एनी बेसेंट
3. परिमल: सूर्य कांत त्रिपाठी 'निराला’
4. शैडो लाइन: अमिताभ घोष
5. सत्यार्थ प्रकाश: स्वामी दयानंद
6. थ्योरी ऑफ रिलेटिविटी: आइंस्टीन
7. अनटू द लास्ट: जॉन रस्किन
8. इन कस्टडी: अनीता देसाई
9. अन हैप्पी इंडिया: लाला लाजपत राय
1०. टाइम मशीन: एच. जी. वेल्स
11. गोल्डन थ्रेसहोल्ड: सरोजिनी नायडू
12. गोरा: रवींद्रनाथ टैगोर
13. ए बेंड इन द रिवर: वी. एस. नायपाल
14. बिहारी सतसइ: बिहारी
15. बिटविन द लाइन: कुल्दीप नैयर
16. हिंदू व्यू ऑफ लाइफ: डा. राधाकृष्णन
17. हर्ष चिरत: बाण भट्ट
18. गीत गोविंद: जयदेव
19. फ्रीडम फॉर फियर: ऑन्ग सान सू की
2०. गाइड: आर. के. नारायण

साउथ वेस्टर्न रेलवे में गुड गार्ड की भर्ती

एग्जाम वॉच
साउथ वेस्टर्न रेलवे में गुड गार्ड की भर्ती

साउथ वेस्टर्न रेलवे में गुड गार्ड के 54 पदों के लिए आवेदन मांगे गए हैं। ऑन लाइन फार्म भरने की अंतिम तिथि 28 अप्रैल है। इन पदों की भर्ती के लिए लिखित परीक्षा का आयोजन किया जाएगा। अगर आप रेलवे में गुड गार्ड बनना चाहते हैं तो सरकारी नौकरी पाने का यह सुनहरा मौका है। आवेदन भरने से लेकर परीक्षा की तैयारी कैसे करने तक की पूरी जानकारी यहां पर दी जा रही है-

योग्यता
गुड गार्ड के पद के लिए आवेदन करने वाले अभ्यर्थियों के लिए किसी भी स्ट्रीम से केवल स्नातक होना जरूरी है। अधिकतम आयु सामान्य अभ्यर्थियों के लिए 42 वर्ष है जबकि आरक्षित श्रेणी के लिए अधिकतम आयु सीमा में छूट प्रदान की गई है।
आवेदन कैसे करें
योग्य अभ्यर्थी ऑनलाइन आवेदन साउथ वेस्टर्न रेलवे के वेबसाइट बबब.न्न्दद्धफथ्द्यद्ब.द्बn पर 28 अप्रैल से पहले कर सकते हैं। आवेदन निशुल्क है।
चयन प्रक्रिया
चयन प्रक्रिया तीन चरणों में पूरी होगी। पहले चरण में एक अब्जेक्टिव टाइप रिटेन एग्जाम होगा। इस एग्जाम के मेरिट लिस्ट में आने वाले अभ्यर्थियों का दूसरे चरण में मेडिकल टेस्ट होगा और तीसरे चरण में डाक्यूमेंट वेरिफिकेशन होगा।
लिखित परीक्षा की तैयारी कैसे करें
लिखित परीक्षा में 1०० अब्जेक्टिव क्यूश्चन पूछे जाएंगे, जिन्हें 9० मिनट के अंदर हल करना होगा। ध्यान रख्ों हर गलत उत्तर के लिए एक-तिहाई अंक काटे जाएंगे इसलिए इस परीक्षा में सही उत्तर पर ही टिक लगाए, अनुमान पर उत्तर न दें। लिखित परीक्षा में सामान्य सचेतता, सामान्य गणित, सामान्य बुद्धिमता और तर्क शक्ति से संबंधित प्रश्न पूछे जाएंगे। इसकी तैयारी के लिए आप कम से कम इंटरमीडिएट स्तर का इतिहास, नागरिकशास्त्र, भूगोल, विज्ञान और हाईस्कूल की गणित के पाठñपुस्तकों का अच्छे से अध्ययन करें। इसके साथ ही विभिन्न रेलवे बोर्ड द्बारा आयोजित गुड गार्ड की परीक्षा में पूछे गए प्रश्नों के तरीकों को देख्ों। इससे आपको अंदाजा लग
जाएगा कि कौन-कौन टॉपिक से किस तरह के प्रश्न पूछे जाते हैं। तर्क शक्ति के अधिकतर प्रश्न संख्या, चित्र, वर्णक्रम आदि को व्यवस्थित करने वाले आते हैं। इस तरह के प्रश्नों को प्रेक्टिस के माध्यम से परीक्षा में असानी से हल किया जा सकता है। गणित में काम, चाल, दूरी, समय, अनुपात, समानुपात पर प्रश्न पूछे जाते हैं, इसके लिए छोटे-छोटे ट्रिक्स के जरिए प्रश्नों को कम समय में हल करने के लिए ट्रिकी मैथड की प्रेक्टिस करना शुरू करें। सामान्य ज्ञान के प्रश्नों को हल करने के लिए आप जीके की अच्छी किताबें पढ़ें और भूगोल, अर्थशास्त्र के छोटे-छोटे फैक्ट्स को भी समझें। सही दिशा में तैयारी करेंगे तो यह जॉब आपकी होगी, फार्म अप्लाई करने के तुरंत बाद से इस परीक्षा की तैयारी करना शुरू कर दीजिए, सफलता आपको जरूरी मिलेगी।

मंगलवार, 7 अप्रैल 2015

महत्वपूर्ण प्रश्न

1. कंप्यूटर की स्क्रीन पर ब्लिंक करने वाले प्रतीक को क्या कहते हैं?
 उत्तर: कर्सर

2. माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस क्या है?
 उत्तर: एक ओपन सोर्स सॉफ्टवेयर

3. 1०24 किलोबाइट बराबर होता है?
 उत्तर: एक मोगाबाइट

4. डाटाबेस क्या है?
 उत्तर: इनपुट डाटा इकट्ठा करना और उसे व्यवस्थित करना

5. चौथी पीढ़ी के कंप्यूटर की प्रोग्रामिग भाषा क्या है?
 उत्तर: ए++

6. बैंकिग लेन-देन में क्एS का क्या अर्थ है?
 उत्तर: इलेक्ट्रॉनिक क्लियरिग सर्विस

7. इंटरनेट पर यूज की जाने वाली लैंग्वेज क्या है?
 उत्तर: जावा

8. कंप्यूटर स्टार्ट करने के लिए निर्देश कहां स्थित होते हैं?
 उत्तर: टग्M दद्धद्बध् में

9. सॉफ्टवेयर के दो प्रमुख वर्ग कौन से हैं?
 उत्तर: सिस्टम और एप्लीकेशन

1०. कंप्यूटर के पावर सप्लाई सिस्टम में इस्तेमाल होने वाले SMघ्S का क्या अर्थ होता है?
 उत्तर: स्विच मोड पावर सप्लाई

शनिवार, 4 अप्रैल 2015

सामान्य ज्ञान परीक्षा में पूछे जाने वाले पुस्तकें और उनके लेखकों के नाम



सामान्य ज्ञान परीक्षा में पूछे जाने वाले पुस्तकें और उनके लेखकों के नाम
1. पंचतंत्र: विष्णु शर्मा
2. पैराडाइज लोस्ट: जॉन मिल्टन
3. प्रोटेस्ट ऑफ इंडिया: वेद मेहता
4. रंग भूमि: प्रेमचंद
5. डी डार्क रूम: आर. के. नारायण
6. दि गोल्डेन गेट: विक्रम सेठ
7. दि जजमेंट: कुलदीप नैय्यर
8. दि मर्चेंट ऑफ वेनिस: स्टीफन स्पेंसर
9. दि ओरिजन ऑफ स्पीशीज: चाल्र्स डिकिन्स
1०. दि सेकंड वार्ल्ड वार: विस्टन चर्चिल
11. दि सोंग्स ऑफ इंडिया: सरोजिनी नायडू
12. लास्ट थिंग्स: सी. पी. स्नो
13. लोलिता: ब्लादमीर नवाबकोर
14. मालगुडी डेज: आर. के. नारायण
15. म्ौन एंड डेस्टिनी: जार्ज बर्नार्ड शा
16. मैल कैम्फ: एडोल्फ हिटलर
17. मदर इंडिया: कैथरीन मायो
18. माई म्युजिक, माई लाइफ: पंडित भीम सेन जोशी
19. नैवर एट होम: डोन मौरेस
2०. ओथ्ोलो: विलियम श्ोक्सपीयर
21. आनंद मठ: बंकिम चंद्र चटर्जी
22. डिस्करी ऑफ इंडिया: जवाहर लाल नेहरु
23 सुटेबल ब्वॉय: विक्रम सेठ
24. कितने पाकिस्तान: कमलेश्वर
25. ट्रेन टू पाकिस्तान: खुशवंत सिंह
26. द सिख टूडे: खुशवंत सिंह
27. द टनल टाइम: आर. के. लक्ष्मण
28. द नेक्ड फेस: सिडनी श्ोल्डन
29. मैन इज ए पॉलिटिकल एनिमल- अरस्तु
30. गोरा: रवींद्र नाथ टैगोर
31. गीत गोविंद: जयदेव
22. हर्ष चरित्र: बाण भट्ट
33. द पोस्ट ऑफिस: रवींद्र नाथ टैगोर
34. पंचतंत्र: विष्णु शर्मा
35. प्रिंसिपिया: न्यूटन
36. लाइफ डिवाइन: अरविंदो घोष
37. ब्ौचलर ऑफ आर्ट: आर. के नारायण
38. डेथ ऑफ सिटी: अमृता प्रीतम
39. एसे ऑफ गीता: अरविंदो घोष
40. माई ट्रुथ: इंदिरा गांधी
41.द आइडिया ऑफ जस्टिस: अमत्र्य सेन
42. द टेस्ट ऑफ माई लाइफ: युवराज सिंह
43. रत्नावली : हर्षवर्धन
44. बुद्ध चरित्र: अश्वघोष
45. मुद्रा राक्षस: विशाखा दत्त
46. मृच्छकटिकम्: शूद्रक
47. पदमावती: मलिक मोहम्मद जायसी
48. कुली: मुल्कराज आनंद
49. वन लाइफ इज नॉट इनफ: नटवर सिंह
50. गेटिंग इंडिया बैक ऑन ट्रैक: रत्न टाटा
51. अन हैप्पी इंडिया: लाला लाजपत राय
52. पोवर्टी एंड अन-ब्रिटिश रूल इन इंडिया: दादाभाई नौरोजी
53. इंडियन फिलास्फी: डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन
54. डिस्कवरी ऑफ इंडिया: जवाहर लाल नेहरु
55. की टू हेल्थ: महात्मा गांधी
56. रामायण: वाल्मीकि
57. महाभारत: वेद व्यास
58. रामचरित्र मानस: तुलसीदास
59. डिवाइन कॉमेडी: दांते
60. इलियड: होमर
61. विग्स ऑफ फायर: ए.पी.जे. अब्दुल कलाम
62. ए हाउस फार मिस्टर बिस्वास: वी.एस. नायपाल
63. एलजिब्रा ऑफ इनफाइनाइट जस्टिस: अनिता देसाई
64. दि गोल्डन गेट: विक्रम सेठ
65. चंद्रकांता: देवकीनंदन खत्री
66. क्रिकेट माई स्टाइल: सचिन तेंदुलकर
67. न खत्म होने वाली कहानी : वी.पी. सिह
68. भारत-भारती: मैथिलीशरण गुप्त
69. प्रिजन डायरी: जयप्रकाश नारायण
70. द ओरिजिन ऑफ द स्पीशीज: डार्विन
71. बिजनेस स्पीड ऑफ थॉट: बिल गेटस
72. स्पीड पोस्ट: शोभा डे
73. विदाउट फीयर आर फेवर: नीलम संजीव रेडडी
74. टू ए हांगर फ्री वर्ल्ड: एम.एस. स्वामीनाथन
75. माइ कंट्री, माइ लाइफ: एल.के. आडवाणी
76. फरिश्ता: कपिल इसापुरी
77. राजेश खन्ना: कुछ तो लोग कहेंगे: यासिर उस्मान
78. द ड्रैमेटिक डिकेड: द इंदिरा गांधी ईयसã: प्रणब मुखर्जी
79. द नैरो रोड टू द डीप नॉर्थ: रिचर्ड फ्लैनागन
80. फाइनल टेस्ट: एक्जिट सचिन तेंदुलकर: दिलीप डिसूजा
81. विग्स ऑफ फायर: ए.पी.जे. अब्दुल कलाम
82. ए हाउस फार मिस्टर बिश्वास: वी.एस. नायपाल
83. एलजिब्रा ऑफ इनफाइनाइट जस्टिस: अरुंधती राय
84. दि गोल्डन गेट: विक्रम सेठ
85. भारत-भारती: म्ौथिलीशरण गुप्त
86. प्रिजन डायरी: जयप्रकाश नारायण
87. द ओरिजिन ऑफ द स्पीशीज: डार्विन
88. स्पीड पोस्ट: शोभा डे
89. विदाउट फीयर आर फेवर: आर. वेंकटरमन
90. टू ए हांगर फ्री वर्ल्ड: एम. एस. स्वामीनाथन
91. माइ कंट्री, माइ लाइफ: एल. के. आडवाणी
92. माई लाइफ: बिल किलंटन
93. माई म्यूजिक, माई लाइफ: पं. रविशंकर
94. द हंगरी टाईड: अमिताभ घोष
95. एशियन ड्रामा: गुन्नार कार्ल मिर्डल
96. वन नाईट दि काल सेंटर: चेतन भगत
97. इंडिया रिमेम्बर्ड: जे. के. रौलिग
98. इंडिका: मेगास्थनीज
99. कादंबरी: बाढ़भट्ट 
100. प्लेइंग इट माय वे: सचिन तेंदुलकर
101. यामा: महादेवी वर्मा
102. सूर-सागर: सूरदास
103. दीवान-ए-गालिब: मिर्जा गालिब
104. सूरज का सातवां घोड़ा: धर्मवीर भारती
105. मृत्यंजय: विरेंद्र कुमार भट्टाचार्य
106. अभी बिल्कुल अभी: केदारनाथ सिंह
107. व्हाइट टाइगर: अरविंद अडिगा
108. द गाइड: आर. के. नारायण
109. इंस्पायरिंग थॉट्स: ए. पी. जे. अब्दुल कलाम
110. ड्रीम ऑफ माइ फादर: बराक ओबामा
111. द गोल्डेन गेट: विक्रम सेठ
112. ए हिमालयन लव स्टोरी: नमिता गोखले
113. ए शॉट एट हिस्ट्री: अभिनव बिंद्रा
114. क्रिकेट माइ स्टाइल: कपिल देव
115. हाफ ए लाइफ: वी. एस. नायपाल
116. पंचतंत्र: विष्णु शर्मा
117. उत्तररामचिरत्: भवभूति
118. बुद्धचरित: अश्वघोष
119. आईन-ए-अकबरी: फैजी
120. हर्षचरित: बाणभट्ट
 121. ग्रेट सोल-महात्मा गांधी एंड हिज स्ट्रगल विद इंडिया: जोसेफ लेलिवेल्ड
122. अर्थशास्त्र: कौटिल्य
123. अष्ठाध्यायी: पणिनी
124. फाल ऑफ स्पैरा: सलीम अली
125. गीता रहस्य: बाल गंगाधर तिलक
126. कोरे कागज: अमृता प्रीतम
127. कुमार संभव: कालिदास
128. माई अरली लाइफ: एम. के. गांधी
129. माई ट्रुथ: इंदिरा गांधी
130. अवर फिल्म, देयर फिल्म: सत्यजीत रे
131. प्रेम पच्चीसी: प्रेमचंद
132. सत्यार्थ प्रकाश: स्वामी दयानंद
133. सावित्री: अरविंदो घोष
134. अनहैप्पी इंडिया: लाला लाजपत राय
135. इंडिया डिवाइडेड: लाला लाजपत राय
136. गीता रहस्य: बाल गंगाधर तिलक
137. द डॉटर ऑफ इस्ट: बेनजीर भुट्टो
138. शीश महल: अमिताभ घोष
139. आषाढ़ का एक दिन: मोहन राकेश
140. रसीदी टिकट: अमृता प्रीतम

यह ब्लॉग खोजें

नये प्रयोग के रूप में मृच्छकटिकम् नाटक का सफल मंचन

रंगमंच नाटक समीक्षा- अभिषेक कांत पांडेय प्रयागराज। उत्तर मध्य सांस्कृतिक केंद्र के प्रेक्षागृह में  प्रख्यात  संस्कृत नाटक  'मृच्छकट...