सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

भारतीय वायु सेना में समूह 'ग’ की भर्ती


एग्जाम वॉच



भारतीय वायु सेना में समूह 'ग’ के सैकड़ों ?रिक्त पदों पर नियुक्ति करने के लिए विज्ञप्ति जारी की है। इन पदों में फायरमैन, मेस कर्मचारी, रसोईया, धोबी, बढ़ई, पेंटर, मरम्मतकर्ता, एमटीएस, इलेक्ट्रिशियन, फिटर, टेलीफोन ऑपरेटर, भंडारपाल, अधीक्षक, राडार मैकेनिक, प्रयोगशाला सहायक, क्लर्क, आशुलिपिक ग्रेड-II, गोला-बारूद ड्यूटी पर श्रमिक, सिविलियन यांत्रिक परिवहन चालक इत्यादि के पद शामिल हैं। परीक्षा की तैयारी और आवेदन कैसे भरें, यहां पूरी जानकारी दी जा रही है-
--------------------------------------------------------------------------------------------

उम्र सीमा

इन सभी पदों पर आवेदन करने के लिए न्यूनतम आयु सीमा 18 वर्ष निर्धारित की गई है। अधिकतम आयु पदों के अनुसार अलग-अलग है। अश्रेलि, फायरमैन और आशुलिपिक ग्रेड-II के लिए अधिकतम आयु 27 वर्ष तथा अन्य शेष पदों के लिए अधिकतम आयु 25 वर्ष है। आयु सीमा में अन्य पिछड़ा वर्ग के उम्मीदवारों को 3 वर्ष, अनुसूचित जाति / जनजाति के आवेदकों को 5 वर्ष की छूट प्रदान की जाएगी। सभी पदों के लिए शैक्षिक योग्यता अलग-अलग निर्धारित ?की गई है।

अंतिम तिथि
इन पदों पर आवेदन करने के लिए आवेदन पत्र को निर्धारित प्रारूप में भरे और मांगे गए सभी प्रमाणपत्रों की सत्यापित प्रति के साथ अपनी पसंद के वायु सेना केंद्र के निर्धारित पते पर अंतिम तिथि से पूर्व भेजें। विज्ञापित पदों पर आवेदन करने की अंतिम तिथि 27 अप्रैल, 2०15 निर्धरित की गई है। अधिक जानकारी के लिए द्धप्प्ध्://बबब.दथफ्ध्.nद्बद.द्बn वेबसाइट देख्ों।

परीक्षा की तैयारी कैसे करें


इन पदों पर चयन लिखित परीक्षा और व्यावहारिक परीक्षा / शारीरिक परीक्षा अथवा साक्षात्कार के आधार पर किया जाएगा।
लिखित परीक्षा में सामान्य बुद्धिमत्ता एवं तर्कशक्ति, अंकीय अभिक्षमता, सामान्य अंग्रेजी और सामान्य जागरूकता को परखा जाएगा। एयर फोर्स की परीक्षा में कम से कम 1०० बहुविकल्पी सवाल पूछे जाते हैं। जिसमें सभी टॉपिक से सामान्या सवाल पूछे जाते हैं। त्ौयारी के लिए इतिहास, विज्ञान, अर्थशास्त्र, भूगोल, नागरिक शास्त्र के बनने वाले जनरल क्यूश्चन को ध्यान से पढ़ें, वर्तमान में घटने वाली घटना को जोड़कर भी क्यूश्चन पूछे जाते हैं। इसकी तैयारी के लिए डेली न्यूज पेपर पढ़ें, सामान्य ज्ञान की अच्छी संकलन वाली गाइड से अध्ययन करना फायदेमंद है। प्रतिशता, अनुपात-समानुपात, लाभ-हानि, दूरी-समय, ब्याज से ज्यादातर बनने वाले गणित के सामान्य प्रश्न टॉपिक से अधिक पूछे जाते हैं, इसलिए इन टॉपिक को अच्छे से कवर करें। अंग्रेजी के अधिकांश क्यूश्चन वर्ड पावर, पार्ट ऑफ स्पीच, एक्टिव वाइस-पैसिव वाइस, पैसेज आदि से आते हैं, इसकी तैयारी के लिए हाईस्कूल स्तर की अंग्रेजी ग्रामर की बुक कारगर साबित होगी। सामान्य बुद्धिमत्ता एवं तर्कशक्ति से कोडिंग-डिकोडिंग, रिलेशनशिप, मिरर, मिसिंग नंबर आदि से जनरल क्यूश्चन होते हैं, इसके लिए इस तरह की प्रतियोगी परीक्षा में पूछे गए प्रश्नों को खूब हल करें। इसके साथ ही जिस पद के लिए आवेदन कर रहे हैं, उस पद से संबंधित प्रश्न पूछे जाते हैं। जिन पदों के लिए शारीरिक परीक्षा की आवश्यकता है, उनमें शारीरिक दक्षता परीक्षण भी किया जाएगा।

साक्षात्कार की तैयारी कैसे करें

साक्षात्कार में सामान्य अभिरुचि, योग्यता और आपके प्वाइंट ऑफ व्यू को चेक किया जाएगा। इसकी तैयारी के लिए आप आपने एकेडिमिक रिकार्ड के अनुसार पढ़े गए विषयों को अच्छे से तैयार कर लें, मसलन इंटर, स्नातक, डिप्लोमा आदि में लिए गए सब्जेक्ट को भी तैयार कर लें। साक्षात्कार के समय जिस सवाल का उत्तर न आता हो तो गोलमोल जवाब न दें, इससे आपके प्रति गलत धारणा बन सकती है। ईमानदारी और आत्मविश्वास के साथ सवाल का जवाब दें। इन पदों के लिए अभी परीक्षा तिथि की घोषणा नहीं की गई हैं, संभवत: आवेदन की अंतिम तिथि के एक से दो महीने के बीच परीक्षा और साक्षात्कार दोनों अलग-अलग तिथि में हो सकता है। लिखित परीक्षा में निर्धारित कटऑफ या मेरिट में आने पर साक्षात्कार के बुलाया जाता है, हो सकता है कि लिखित परीक्षा और साक्षात्कार के बीच कुछ ही दिनों का अंतर रहे, इसलिए साक्षात्कार की तैयारी भी अभी से करना शुरू कर दें, जिससे कि अंतिम चयन में आपको सफलता मिल जाए।

वेतनमान
वेतनमान के तौर पर चयनित उम्मीदवारों को 5,2०० - 2०,2०० रुपये तथा ग्रेड पे पदों के अनुसार 18०० / 19०० /24०० रुपये दिया जाएगा।
 

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

ओले क्यों गिरते हैं?

जानकारी

रिंकी पाण्डेय
ओले क्यों गिरते हैं?

बच्चो, कई बार बारिश के दौरान अचानक पानी की बूंदों के साथ बर्फ के छोटे-छोटे गोले भी गिरते हैं। इन्हें हम ओले कहते हैं। ये ओले आसमान में कैसे बनते हैं और ओले क्यों गिरते हैं? तो आओ ओले के बारे में पूरी बात जानें।

-------------------------------------------------------------------------------------------

बच्चों, तुम जानते हो कि बर्फ पानी के जमने से बनता है। अब तुम्हारे मन में ये प्रश्न उठ रहा होगा कि आसमान में ये पानी कैसे बर्फ बन जाता है और फिर गोल-गोले बर्फ के टुकड़ों के रूप में ये धरती पर क्यों गिरते हैं? तुमने जैसा कि पढ़ा होगा कि पानी को जमने के लिए शून्य डिग्री सेल्सियत तापमान होना चाहिए, तुमने फ्रीजर में देखा होगा कि पानी के छोटे-छोटे बूंदें बर्फ के गोले के रूप में जम जाता है, ऐसा ही प्रकृति में होता है। हम जैसे-जैसे समुद्र के किनारे से ऊपर यानी ऊंचाई की ओर बढ़ते हैं, तब जगह के साथ ही तापमान धीरे-धीरे कम होता जाता है। तुम इसे ऐसे समझ सकते हो, लोग गर्मी के मौसम में पहाड़ों पर जाना पसंद करते हैं, क्यों? इसलिए कि पहाड़ पर तापमान कम होता है, यानी मैदान…

आओ जानें डायनासोर की दुनिया

अभिषेक कांत पाण्डेय
स्टीवन स्पीलबर्ग की जुरासिक पार्क फ्रेंचाइजी की नई फिल्म 'जुरासिक वर्ल्ड’ इन दिनों खूब धूम मचा रही है। इससे पहले भी एक फिल्म 'जुरासिक पार्क’ आई थी, जिसने पूरी दुनिया में डायनासोर नाम के जीव से परिचय कराया था। तुमने भी वह फिल्म देखी होगी, आखिर कहां चले गए ये डायनासोर, कैसे हुआ इनका अंत... इनके बारे में तुम अवश्य जानना चाहोगे।


कई तरह के थे डायनासोर

स्टीवन स्पीलबर्ग की जुरासिक पार्क फ्रेंचाइजी की नई फिल्म 'जुरासिक वर्ल्ड’ इन दिनों खूब धूम मचा रही है। इससे पहले भी एक फिल्म 'जुरासिक पार्क’ आई थी, जिसने पूरी दुनिया में डायनासोर नाम के जीव से परिचय कराया था। तुमने भी वह फिल्म देखी होगी, आखिर कहां चले गए ये डायनासोर, कैसे हुआ इनका अंत... इनके बारे में तुम अवश्य जानना चाहोगे।

डायनासोर की और बातें
.इनके अब तक 5०० वंशों और 1००० से अधिक प्रजातियों की पहचान हुई है।
.कुछ डायनासोर शाकाहारी, तो कुछ मांसाहारी होते थे जबकि कुछ डायनासारे दो पैरों वाले, तो कुछ चार पैरों वाले थे।
.डायनासोर बड़े होते थे, पर कुछ प्रजातियों का आकार मानव के बराबर, तो उससे भी छोटे होते…

जानो पक्षियों के बारे में

जानकारी


बच्चो, इस धरती में कई तरह के पक्षी हैं, तुम्हें जानकर आश्चर्य होगा कि हमिंग बर्ड नाम की पक्षी किसी भी दिशा में उड़ती है, तो कुछ पक्षी ऐसे हैं, जो अपने कमजोर पंख की वजह से उड़ नहीं पाते हैं। चलते हैं पक्षियों के ऐसे अजब-गजब संसार में और जानते हैं कि ये पक्षी कौन हैं?
-----------------------------------------------------------------------

हवा में उड़ते हुए तुमने सैकड़ों पक्षियों को देखा होगा। लेकिन कई ऐसे पक्षी भी हैं, जो उड़ नहीं सकते, तो कुछ किसी भी दिशा में उड़ सकते हैं। तुम्हें जानकर हैरानी होगी कि रेटाइट्स बर्ड परिवार से जुड़े विशालकाय पक्षी कभी उड़ा भी करते थे। पर समय गुजरने के साथ-साथ ये जमीन पर रहने लगे। इस कारण से इनका शरीर मोटा होता गया। उड़ान भरने वाले पंख बेकार होते गए और वो छोटे कमजोर पंखनुमा बालों में बदल गए। इनके बारे में तुम जानते हो, शतुर्गमुर्ग, जो ऑस्ट्रेलिया में पाया जाता है। यह उड़ नहीं सकता है लेकिन जमीन पर ये 7० किलोमीटर घंटे की गति से दौड़ सकता है। ऐसे ही कई रेटाइट्स बर्ड परिवार से जुड़े पक्षी की लंबी लिस्ट हैं, जिनमें पेंग्विन, इम्यू, कीवी, बतख आदि आते हैं।

पेंग्विन उड़त…