सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

सरकारी सहायता से करें फूड प्रोसेसिंग का स्वारोजगार

सेल्फ एंप्लॉयमेंट
अभिषेक कांत पाण्डेय


फूड प्रोसेसिग आज के समय की मांग है, खाद्य पदार्थों की पैकिंग कर उन्हें आकार्षक ढंग से पेश करने का यह स्वारोजगार आपके लिए बेहतर विकल्प हो सकता है। इस रोजगार को अपनाने के लिए फूड प्रोसेसिंग की तकनीक के बारे में जानकारी होना जरूरी है। अगर आप इस रोजगार को करना चाहते हैं तो पूरे मन से जुट जाइए, आपकी काबिलियत, सरकारी सहायता और बाजार में पैकिंग फूड की बढ़ती मांग आपको कामयाबी जरूरी दिलाएगी।
----------------------
------------------------------------------------------------------
फूड प्रोसेसिंग के लिए आप कई तरह के खाद्य पदार्थों को चुन सकते हैं, इसके लिए आप चाहे तो आचार, मुरब्बा, चाय, आटा, चावल, दाल, चना, मसाले, चीनी, खाद्य तेल, घी, सब्जियां, डेयरी उत्पाद आदि अपनी सुविधा के अनुसार इन पदाथ्रों की पैकेजिंग कर सकते हैं। इस क्षेत्र में कम निवेश और बेहतर कारोबारी सहायता के जरिए एक नया मुकाम बना सकते हैं, जिसके लिए खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्रालय कई सारी योजनाएं चला रही है। इसके तहत नई इकाई लगाने, मौजूदा इकाई का आधुनिकीकरण करने, तकनीकी सहायता आदि के लिए मदद मिल रही है।

फूड प्रोसेसिग क्या है

फूड प्रोसेसिग इंडस्ट्री काफी बड़ा क्षेत्र है। इसमें खाद्य सामग्री और पेय पदार्थों को प्रोसेस करके रखा जाता है। फूड प्रोसेसिग एक तरह की टेक्नोलॉजी है। इस क्षेत्र में कॅरिअर बनाने से पहले आपको फूड टेक्नोलॉजी में टàेनिंग की आवश्यकता पड़ेगी।

योग्यता
फूड प्रोसेसिग में डिप्लोमा, सर्टिफिकेट कोर्सेज के अलावा डिग्री भी प्राप्त की जा सकती है। इस क्षेत्र से स्नातक डिग्री में प्रवेश पाने के लिए केमिस्ट्री, फिजिक्स, मैथमेटिक्स या बायोलॉजी आदि विषयों में 12वीं में कम से कम 5० प्रतिशत अंक जरूरी हैं। एमएससी कोर्स करने के लिए फूड टेक्नोलॉजी से संबंधित विषयों में स्नातक की डिग्री आवश्यक है।

खर्च

फूड प्रोसेसिग का काम करीब एक लाख रुपये से शुरू किया जा सकता है।

कच्चा माल
फूड प्रोसेसिग दो से तीन स्तरों पर चलने वाला स्वरोजगार है। आप अपने सामथ्र्य के अनुसार इसे शुरू कर सकते हैं। इसमें जैविक फसलें उगाना, जैविक फूड तैयार करना और उसे बाजार में उतारना आदि भी शामिल है। अगर आप केवल फूड प्रोसेसिग का काम शुरू करते हैं तो कच्चा माल जैविक फसले उगाने वाले किसानों से खरीद सकते हैं।

बिक्री
आप तैयार माल को बाजार में सीधे उतारने के अलावा एजेंट्स के जरिए भी बिक्री कर सकते हैं खादी और ग्रामोद्योग आयोग से प्रशिक्षण लेने वाले अगर लोन लेकर काम शुरू करते हैं तो खादी के बिक्री संस्थान तब तक आपका माल खरीदने की जिम्मेदारी उठाएंगे, जब तक कि आप लोन नहीं चुका देते।

आमदनी
एक लाख की लागत से प्रतिमाह 1० से 3० हजार रुपये तक कमाए जा सकते हैं। आमदनी आपके द्बारा तैयार माल, उसकी पैकिग और मार्केटिग पर भी निर्भर करती है।

स्वारोजगार शुरू करने के लिए मिलती है सहायता
वैसे तो किसी भी तरह के स्वरोजगार को शुरू करने के लिए आप प्राइवेट और विभिन्न सरकारी योजनाओं के तहत ऋण ले सकते हैं, लेकिन अगर आपने खादी और ग्रामोद्योग आयोग से प्रशिक्षण लिया है तो आप इस संस्थान से भी ऋण के लिए आवेदन कर सकते हैं। यहां से प्रशिक्षण लेने वाले पच्चीस हजार से पच्चीस लाख तक का लोन ले सकते हैं। इसके लिए नजदीकी बैंक से संपर्क करना होगा। छोटे कारोबारियों के लिए भारतीय लघु उद्योग विकास बैंक (सिडबी) को नोडल एजेंसी के रूप में नियुक्त किया गया है, जिसके जरिए पात्र इकाई को बैंकों को डायरेक्ट क्रेडिट स्कीम का भी लाभ मिलता है। ऐसे में कारोबारी सीधे सिडबी के कार्यालय से योजना के संबंध में जानकारी लेकर, आगे की कार्यवाही कर सकते हैं, जिसे करने के लिए सिडबी की तरफ से भी जरूरी सहायता दी जाती है।



खाद्य प्रसंस्करण मंत्रालय द्बारा दिया जाता है प्रशिक्षण


खाद्य प्रसंस्करण मंत्रालय नई दिल्ली द्बारा 3० दिवसीय उद्यमिता विकास कार्यक्रम खाद्य प्रसंस्करण पर आधारित ईडीपी प्रशिक्षण कार्यक्रम समय-समय पर आयोजित किया जाता है। प्रशिक्षण कार्यक्रम में बेकरी उत्पाद, फल-सब्जियों का संरक्षण एवं निर्माण आदि का सरल प्रेक्टिकल के माध्यम से प्रशिक्षण दिया जाता है, साथ ही हितग्राहियों को बाजार, सर्वेक्षण, व्यापार, बैंकिग, प्रोजेक्ट रिपोर्ट की जानकारी भी दी जाती है।


उद्यानिकी एवं खाद्य प्रसंस्करण विभाग मध्य प्रदेश शासन की योजनाएं


उद्यानिकी एवं खाद्य प्रसंस्करण विभाग मध्य प्रदेश शासन द्बारा फूड प्रोसेसिंग में स्वारोजगार अपनाने के लिए कई योजनाएं हैं, जिनमें प्रशिक्षण कार्यक्रम और स्वारोजगार के लिए विभिन्न तरह की सहायता मध्य प्रदेश सरकार द्बारा दी जाती है। खाद्य प्रसंस्करण की अन्य योजनाएं, जिनका लाभ आप उठा सकते हैं-
-खाद्य प्रसंस्करण उद्योगों हेतु प्रचार प्रसार योजना
- खाद्य प्रसंस्करण उद्योगों के लिए उद्यमिता विकास कार्यक्रम
-कृषि निर्यात क्षेत्रों में कृषि उत्पादों के निर्यातों के परिवहन व्यय की प्रतिपूर्ति योजना
-उद्योग संवर्धन नीति अनुसार खाद्य प्रसंस्करण उद्योगों के विकास की योजना
महिलाओं के लिए फल परिरक्षण प्रशिक्षण केंद्र द्बारा जैम, जैली, मुरब्बा, अचार, चटनी, केचप, सास, शर्बत आदि बनाने का प्रशिक्षण, इंदौर, सागर, होशंगाबाद, उज्जैन, ग्वालियर, भोपाल, जबलपुर एवं रीवा आदि जगहों पर समय-समय पर 15 दिवसीय प्रशिक्षण आयोजित किया जाता है।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

ओले क्यों गिरते हैं?

जानकारी

रिंकी पाण्डेय
ओले क्यों गिरते हैं?

बच्चो, कई बार बारिश के दौरान अचानक पानी की बूंदों के साथ बर्फ के छोटे-छोटे गोले भी गिरते हैं। इन्हें हम ओले कहते हैं। ये ओले आसमान में कैसे बनते हैं और ओले क्यों गिरते हैं? तो आओ ओले के बारे में पूरी बात जानें।

-------------------------------------------------------------------------------------------

बच्चों, तुम जानते हो कि बर्फ पानी के जमने से बनता है। अब तुम्हारे मन में ये प्रश्न उठ रहा होगा कि आसमान में ये पानी कैसे बर्फ बन जाता है और फिर गोल-गोले बर्फ के टुकड़ों के रूप में ये धरती पर क्यों गिरते हैं? तुमने जैसा कि पढ़ा होगा कि पानी को जमने के लिए शून्य डिग्री सेल्सियत तापमान होना चाहिए, तुमने फ्रीजर में देखा होगा कि पानी के छोटे-छोटे बूंदें बर्फ के गोले के रूप में जम जाता है, ऐसा ही प्रकृति में होता है। हम जैसे-जैसे समुद्र के किनारे से ऊपर यानी ऊंचाई की ओर बढ़ते हैं, तब जगह के साथ ही तापमान धीरे-धीरे कम होता जाता है। तुम इसे ऐसे समझ सकते हो, लोग गर्मी के मौसम में पहाड़ों पर जाना पसंद करते हैं, क्यों? इसलिए कि पहाड़ पर तापमान कम होता है, यानी मैदान…

आओ जानें डायनासोर की दुनिया

अभिषेक कांत पाण्डेय
स्टीवन स्पीलबर्ग की जुरासिक पार्क फ्रेंचाइजी की नई फिल्म 'जुरासिक वर्ल्ड’ इन दिनों खूब धूम मचा रही है। इससे पहले भी एक फिल्म 'जुरासिक पार्क’ आई थी, जिसने पूरी दुनिया में डायनासोर नाम के जीव से परिचय कराया था। तुमने भी वह फिल्म देखी होगी, आखिर कहां चले गए ये डायनासोर, कैसे हुआ इनका अंत... इनके बारे में तुम अवश्य जानना चाहोगे।


कई तरह के थे डायनासोर

स्टीवन स्पीलबर्ग की जुरासिक पार्क फ्रेंचाइजी की नई फिल्म 'जुरासिक वर्ल्ड’ इन दिनों खूब धूम मचा रही है। इससे पहले भी एक फिल्म 'जुरासिक पार्क’ आई थी, जिसने पूरी दुनिया में डायनासोर नाम के जीव से परिचय कराया था। तुमने भी वह फिल्म देखी होगी, आखिर कहां चले गए ये डायनासोर, कैसे हुआ इनका अंत... इनके बारे में तुम अवश्य जानना चाहोगे।

डायनासोर की और बातें
.इनके अब तक 5०० वंशों और 1००० से अधिक प्रजातियों की पहचान हुई है।
.कुछ डायनासोर शाकाहारी, तो कुछ मांसाहारी होते थे जबकि कुछ डायनासारे दो पैरों वाले, तो कुछ चार पैरों वाले थे।
.डायनासोर बड़े होते थे, पर कुछ प्रजातियों का आकार मानव के बराबर, तो उससे भी छोटे होते…

जानो पक्षियों के बारे में

जानकारी


बच्चो, इस धरती में कई तरह के पक्षी हैं, तुम्हें जानकर आश्चर्य होगा कि हमिंग बर्ड नाम की पक्षी किसी भी दिशा में उड़ती है, तो कुछ पक्षी ऐसे हैं, जो अपने कमजोर पंख की वजह से उड़ नहीं पाते हैं। चलते हैं पक्षियों के ऐसे अजब-गजब संसार में और जानते हैं कि ये पक्षी कौन हैं?
-----------------------------------------------------------------------

हवा में उड़ते हुए तुमने सैकड़ों पक्षियों को देखा होगा। लेकिन कई ऐसे पक्षी भी हैं, जो उड़ नहीं सकते, तो कुछ किसी भी दिशा में उड़ सकते हैं। तुम्हें जानकर हैरानी होगी कि रेटाइट्स बर्ड परिवार से जुड़े विशालकाय पक्षी कभी उड़ा भी करते थे। पर समय गुजरने के साथ-साथ ये जमीन पर रहने लगे। इस कारण से इनका शरीर मोटा होता गया। उड़ान भरने वाले पंख बेकार होते गए और वो छोटे कमजोर पंखनुमा बालों में बदल गए। इनके बारे में तुम जानते हो, शतुर्गमुर्ग, जो ऑस्ट्रेलिया में पाया जाता है। यह उड़ नहीं सकता है लेकिन जमीन पर ये 7० किलोमीटर घंटे की गति से दौड़ सकता है। ऐसे ही कई रेटाइट्स बर्ड परिवार से जुड़े पक्षी की लंबी लिस्ट हैं, जिनमें पेंग्विन, इम्यू, कीवी, बतख आदि आते हैं।

पेंग्विन उड़त…