सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

स्नातक पास हैं तो असिस्टेंड कमांडेट बनने की करें तैयारी


एग्जाम वॉच
अभिषेक कांत पाण्डेय

पुलिस फोर्स में अधिकारी का एक अलग ही रुतबा होता है, लेकिन इस पद तक पहुंचने के लिए मेहनत भी खूब करनी होती है, अगर आप खुद की झमता पर रखते हैं यकीन, तो जुट जाइए असिस्टेंड कमांडेट बनने के लिए। संघ लोक सेवा आयोग की सीएपीएफ असिस्टेंट कमांडेंट परीक्षा, 2०15 आपका इंतजार कर रही है। सही दिशा में तैयारी और आवेदन करने की पूरी जानकारी यहां पर दी जा रही है।


यूपीएससी ने इस बार असिस्टेंट कमांडेट के 3०4 पदों पर वैकेंसी निकाली हैं। ये भर्तियां बीएसएफ, सीआरपीएफ और सीआइएसएफ के लिए होनी हैं। इन पदों पर आवेदन की अंतिम तारीख 15 मई 2०15 है।


 कौन हैं योग्य
2० से 25 वर्ष के भारतीय नागरिक, जो स्नातक कर चुके हैं या उसके अंतिम वर्ष में हैं, वे इसके लिए योग्य माने जाएंगे। इन पदों के लिए महिला और पुरुष दोनों आवेदन कर सकते हैं।

 कैसे करें आवेदन
आवेदन ऑनलाइन मोड से किया जा सकता है, जिसकी आखिरी तारीख 15 मई, 2०15 है। जनरल और ओबीसी कैटेगरी के आवेदकों को 2०० रुपये आवेदन शुल्क जमा करना होगा। एससी/एसटी और महिला आवेदकों से शुल्क नहीं लिया जाएगा। आवेदन करने और इससे जुड़ी अधिक जानकारी के लिए यूपीएससी की वेबसाइट पर लॉग इन कर सकते हैं।



चयन का तरीका
उम्मीदवार का चयन लिखित परीक्षा, फिजिकल एफिशिएंसी टेस्ट (पीईटी) और मेडिकल स्टैंडर्ड टेस्ट के आधार पर होगा। आखिर में इंटरव्यू /पर्सनालिटी टेस्ट होगा। लिखित परीक्षा पास करने वालों को पीईटी/मेडिकल टेस्ट के लिए बुलाया जाएगा। जो पीईटी/मेडिकल टेस्ट में भी पास होगा उसे इंटरव्यू/पर्सनालिटी टेस्ट के लिए बुलाया जाएगा।

लिखित परीक्षा


इसमें दो पेपर होते हैं। आयोग ने प्रथम पेपर के लिए न्यूनतम अंक निर्धारित किए हैं। इसे प्राप्त करने पर ही अभ्यर्थी का द्बितीय पेपर जांचा जाता है।

प्रथम पेपर : यह जनरल एबिलिटी और इंटेलीजेंस का होता है। यह दो घंटे का ऑब्जेक्टिव प्रकार का पेपर है। इसमें कुल 25० अंकों के प्रश्न पूछे जाएंगे। यह पेपर हिदी और अंग्रेजी दोनों भाषाओं में होगा। छात्र अपनी सहूलियत से भाषा का चयन कर सकते हैं। इसमें जीके, मैथ्स और रीजनिग के प्रश्न पूछे जाते हैं।

द्बितीय पेपर : यह पारंपरिक तरह का पेपर है, जिसमें दीर्घ उत्तरीय प्रश्न पूछे जाते हैं। पेपर में एस्से, प्रेसिस राइटिग और कॉम्प्रीहेंशन आते हैं। यह पेपर कुल 2०० अंकों और तीन घंटे का होता है। इसमें पूछा जाने वाला एस्से हिदी या अंग्रेजी किसी भी भाषा में लिखा जा सकता है। जबकि अन्य पूछी जानेवाली चीजें सिर्फ इंगलिश में दी जाती हैं। 3००-3०० शब्दों के चार एस्से लिखने के लिए भी आ सकते हैं। इसके अलावा दो प्रेसिस, दो पैसेज, दो रिपोर्ट लिखनी होती है। इनसे अलग ग्रामर के 3० प्रश्न और भी पूछे जाते हैं।


टिप्स
-यूपीएससी द्बारा आयोजित सीएपीएफ असिस्टेंट कमांडेंट परीक्षा की बेहतर तैयारी के लिए अभ्यर्थियों को चाहिए कि वे आइएएस और सीडीएस के पेपरों की मदद लें। इसमें पूछे जानेवाले करेंट अफेयर्स, जियोग्राफी, इतिहास आदि के प्रश्न सीएपीएफ असिस्टेंट कमांडेंट की परीक्षा में भी पूछे जाते हैं।
-इस परीक्षा में इंगलिश सेक्शन बहुत महत्वपूर्ण होता है। खासतौर से दीर्घउत्तर वाले प्रश्नपत्र में इंगलिश के चार एस्से लिखने होते हैं। सारे एस्से करेंट टॉपिक से संबंधित होते हैं। इसलिए तैयारी के लिए अच्छी भाषा के साथ ही विषयों का गहरा ज्ञान भी जरूरी है। इसकी तैयारी के लिए छात्रों को ऑब्जेक्टिव इंगलिश, डिस्कि्रपटिव इंगलिश की बेहतरीन किताब से मदद लेनी चाहिए। अच्छी किताब से एस्से लिखने के प्रारूप को सीखें। इसके साथ ही लिखने की रफ्तार को बेहतर करने पर ज्यादा जोर देना चाहिए।

 

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

ओले क्यों गिरते हैं?

जानकारी

रिंकी पाण्डेय
ओले क्यों गिरते हैं?

बच्चो, कई बार बारिश के दौरान अचानक पानी की बूंदों के साथ बर्फ के छोटे-छोटे गोले भी गिरते हैं। इन्हें हम ओले कहते हैं। ये ओले आसमान में कैसे बनते हैं और ओले क्यों गिरते हैं? तो आओ ओले के बारे में पूरी बात जानें।

-------------------------------------------------------------------------------------------

बच्चों, तुम जानते हो कि बर्फ पानी के जमने से बनता है। अब तुम्हारे मन में ये प्रश्न उठ रहा होगा कि आसमान में ये पानी कैसे बर्फ बन जाता है और फिर गोल-गोले बर्फ के टुकड़ों के रूप में ये धरती पर क्यों गिरते हैं? तुमने जैसा कि पढ़ा होगा कि पानी को जमने के लिए शून्य डिग्री सेल्सियत तापमान होना चाहिए, तुमने फ्रीजर में देखा होगा कि पानी के छोटे-छोटे बूंदें बर्फ के गोले के रूप में जम जाता है, ऐसा ही प्रकृति में होता है। हम जैसे-जैसे समुद्र के किनारे से ऊपर यानी ऊंचाई की ओर बढ़ते हैं, तब जगह के साथ ही तापमान धीरे-धीरे कम होता जाता है। तुम इसे ऐसे समझ सकते हो, लोग गर्मी के मौसम में पहाड़ों पर जाना पसंद करते हैं, क्यों? इसलिए कि पहाड़ पर तापमान कम होता है, यानी मैदान…

जानो पक्षियों के बारे में

जानकारी


बच्चो, इस धरती में कई तरह के पक्षी हैं, तुम्हें जानकर आश्चर्य होगा कि हमिंग बर्ड नाम की पक्षी किसी भी दिशा में उड़ती है, तो कुछ पक्षी ऐसे हैं, जो अपने कमजोर पंख की वजह से उड़ नहीं पाते हैं। चलते हैं पक्षियों के ऐसे अजब-गजब संसार में और जानते हैं कि ये पक्षी कौन हैं?
-----------------------------------------------------------------------

हवा में उड़ते हुए तुमने सैकड़ों पक्षियों को देखा होगा। लेकिन कई ऐसे पक्षी भी हैं, जो उड़ नहीं सकते, तो कुछ किसी भी दिशा में उड़ सकते हैं। तुम्हें जानकर हैरानी होगी कि रेटाइट्स बर्ड परिवार से जुड़े विशालकाय पक्षी कभी उड़ा भी करते थे। पर समय गुजरने के साथ-साथ ये जमीन पर रहने लगे। इस कारण से इनका शरीर मोटा होता गया। उड़ान भरने वाले पंख बेकार होते गए और वो छोटे कमजोर पंखनुमा बालों में बदल गए। इनके बारे में तुम जानते हो, शतुर्गमुर्ग, जो ऑस्ट्रेलिया में पाया जाता है। यह उड़ नहीं सकता है लेकिन जमीन पर ये 7० किलोमीटर घंटे की गति से दौड़ सकता है। ऐसे ही कई रेटाइट्स बर्ड परिवार से जुड़े पक्षी की लंबी लिस्ट हैं, जिनमें पेंग्विन, इम्यू, कीवी, बतख आदि आते हैं।

पेंग्विन उड़त…

आओ जानें डायनासोर की दुनिया

अभिषेक कांत पाण्डेय
स्टीवन स्पीलबर्ग की जुरासिक पार्क फ्रेंचाइजी की नई फिल्म 'जुरासिक वर्ल्ड’ इन दिनों खूब धूम मचा रही है। इससे पहले भी एक फिल्म 'जुरासिक पार्क’ आई थी, जिसने पूरी दुनिया में डायनासोर नाम के जीव से परिचय कराया था। तुमने भी वह फिल्म देखी होगी, आखिर कहां चले गए ये डायनासोर, कैसे हुआ इनका अंत... इनके बारे में तुम अवश्य जानना चाहोगे।


कई तरह के थे डायनासोर

स्टीवन स्पीलबर्ग की जुरासिक पार्क फ्रेंचाइजी की नई फिल्म 'जुरासिक वर्ल्ड’ इन दिनों खूब धूम मचा रही है। इससे पहले भी एक फिल्म 'जुरासिक पार्क’ आई थी, जिसने पूरी दुनिया में डायनासोर नाम के जीव से परिचय कराया था। तुमने भी वह फिल्म देखी होगी, आखिर कहां चले गए ये डायनासोर, कैसे हुआ इनका अंत... इनके बारे में तुम अवश्य जानना चाहोगे।

डायनासोर की और बातें
.इनके अब तक 5०० वंशों और 1००० से अधिक प्रजातियों की पहचान हुई है।
.कुछ डायनासोर शाकाहारी, तो कुछ मांसाहारी होते थे जबकि कुछ डायनासारे दो पैरों वाले, तो कुछ चार पैरों वाले थे।
.डायनासोर बड़े होते थे, पर कुछ प्रजातियों का आकार मानव के बराबर, तो उससे भी छोटे होते…