सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

इन महिलाओं को मिला नोबेल प्राइज


नोबेल प्राइज हर साल रॉयल स्वीडिश एकेडमी ऑफ साइंसेस, द स्वीडिश एकेडमी, द कारोलिस्का इंस्टीट्यूट एवं द नॉर्वेजियन नोबेल कमेटी द्बारा दिया जाता है। दुनिया का सबसे प्रतिष्ठित नोबेल पुरस्कार ऐसे लोगों या संस्था को दिया जाता है, जिन्होंने रसायनशास्त्र, भौतिकीशास्त्र, साहित्य, शांति, एवं औषधि विज्ञान (मेडिकल साइंस) के क्षेत्र में अद्बितीय योगदान दिया हो। नोबेल प्राइज के संस्थापक अल्फ्रेड नोबेल थ्ो। वहीं अर्थशास्त्र के क्षेत्र में नोबेल पुरस्कारों की शुरुआत 1968 में स्वीडन की केंद्रीय बैंक स्वेरिज रिक्सबैंक द्बारा शुरू की गई। यह पुरस्कार अर्थशास्त्र के क्षेत्र में अद्बितीय कार्य करने वाले लोगों और संस्थाओं को हर साल दिया जाता है। हर कैटेगरी में पुरस्कार अलग-अलग समिति द्बारा दिया जाता है। नोबेल प्राइज विनर को एक मेडल, एक डिप्लोमा, एक मोनेटरी एवार्ड के साथ धनराशि भी दी जाती है। अब तक 48 महिलाओं को नोबेल पुरस्कार मिल चुका है।
भौतिक विज्ञान में अब तक नोबेल प्राइज से सम्मानित महिलाएं
मैडम क्यूरी
जन्म: 7 नवंबर, 1867
मृत्यु: 4 जुलाई, 1934
पोलेंड की साइंटिस्ट मैडम क्यूरी को वर्ष 19०3 में भौतिक के क्ष्ोत्र में रेडियोएक्टिविटी की खोज के लिए सम्मानित किया गया।

मारिया गोपर्ट मेयर
जन्म: 28 जून, 19०6
मृत्यु: 2० फरवरी, 1972
जर्मनी की वैज्ञानकि मारिया गोपर्ट मेयर को 1963 में न्यूक्लीयर फिजिक्स के क्ष्ोत्र में न्यूक्लीयर सेल स्टàक्चर की खोज के लिए सम्मानित किया गया।
-----------------------------------------------------------------------------------
रसायन विज्ञान में अब तक नोबेल प्राइज से सम्मानित महिलाएं

मैडम क्यूरी
1911 में रसायन के क्ष्ोत्र में आइसोलेशन ऑफ यूरेनियम (यूरेनियम शुद्धीकरण) के लिए नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

आइरेन ज्वाइलट क्यूरी
जन्म: 12 सितंबर, 1897
मृत्यु: 17 मार्च 1956
1935 में फ्रांस की साइंटिस्ट आइरेन ज्वाइलट क्यूरी को न्यूक्लीयर कैमिस्ट्री के क्ष्ोत्र में नए रेडियोधर्मी तत्वों के संश्लेषण की खोज के लिए सम्मानित किया गया।

ड्रॉथी क्रोफुट हॉडकिन
जन्म: 12 मई, 191०
मृत्यु: 29 जुलाई, 1994
1964 में ब्रिटेन की साइंटिस्ट ड्रॉथी हॉडकिन को बायो कैमिस्टàी के क्ष्ोत्र में महत्वपूर्ण जैव रासायनिक पदार्थों की संरचनाओं के एक्स-रे तकनीक की खोज के लिए नोबेल प्राइज से सम्मानित किया गया।
एडा ई
जन्म: 22 जून, 1939
2००9 में इजराइल की साइंटिस्ट को बायो कैमिस्ट्री के क्ष्ोत्र में राइबोसोम की संरचना और कार्यप्रणाली के विशिष्ट के अध्ययन के लिए नोबेल प्राइज से सम्मानित किया गया।
बॉक्स
अब तक 9०० नोबेल पुरस्कार विजेता
19०1 से 2०15 तक कुल 573 लोगों को नोबेल प्राइज मिल चुका है। इसमें संयुक्त रूप से मिले नोबेल प्राइज की संख्या जोड़ दी जाए तो कुल 9०० लोगों को यह पुरस्कार मिल चुका है। इसके अलावा 26 संस्थाओं को नोबेल प्राइज से सम्मानित किया गया है।
अब तक 48 महिलाओं को मिला नोबेल पुरस्कार
19०1 से 2०15 तक कुल 48 महिलाओं को नोबेल पुरस्कार मिल चुका है। मैडम क्यूरी ऐसी महिला है जिन्हें दो बार नोबेल पुरस्कार मिलने का गौरव प्राप्त है। इन्हें 19०3 में भौतिक के क्ष्ोत्र में रेडियोएक्टिविटी की खोज करने के लिए इन्हें और इनके पति पियरे क्यूरी को संयुक्त रूप से दिया गया। इस तरह से वे नोबेल प्राइज से सम्मानित होने वाली पहली महिला बनी। इसके बाद मैडम क्यरी को 1911 में रसायन के क्ष्ोत्र में आइसोलेशन ऑफ यूरेनियम (यूरेनियम शुद्धीकरण) के लिए नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया।


 

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

ओले क्यों गिरते हैं?

जानकारी

रिंकी पाण्डेय
ओले क्यों गिरते हैं?

बच्चो, कई बार बारिश के दौरान अचानक पानी की बूंदों के साथ बर्फ के छोटे-छोटे गोले भी गिरते हैं। इन्हें हम ओले कहते हैं। ये ओले आसमान में कैसे बनते हैं और ओले क्यों गिरते हैं? तो आओ ओले के बारे में पूरी बात जानें।

-------------------------------------------------------------------------------------------

बच्चों, तुम जानते हो कि बर्फ पानी के जमने से बनता है। अब तुम्हारे मन में ये प्रश्न उठ रहा होगा कि आसमान में ये पानी कैसे बर्फ बन जाता है और फिर गोल-गोले बर्फ के टुकड़ों के रूप में ये धरती पर क्यों गिरते हैं? तुमने जैसा कि पढ़ा होगा कि पानी को जमने के लिए शून्य डिग्री सेल्सियत तापमान होना चाहिए, तुमने फ्रीजर में देखा होगा कि पानी के छोटे-छोटे बूंदें बर्फ के गोले के रूप में जम जाता है, ऐसा ही प्रकृति में होता है। हम जैसे-जैसे समुद्र के किनारे से ऊपर यानी ऊंचाई की ओर बढ़ते हैं, तब जगह के साथ ही तापमान धीरे-धीरे कम होता जाता है। तुम इसे ऐसे समझ सकते हो, लोग गर्मी के मौसम में पहाड़ों पर जाना पसंद करते हैं, क्यों? इसलिए कि पहाड़ पर तापमान कम होता है, यानी मैदान…

जानो पक्षियों के बारे में

जानकारी


बच्चो, इस धरती में कई तरह के पक्षी हैं, तुम्हें जानकर आश्चर्य होगा कि हमिंग बर्ड नाम की पक्षी किसी भी दिशा में उड़ती है, तो कुछ पक्षी ऐसे हैं, जो अपने कमजोर पंख की वजह से उड़ नहीं पाते हैं। चलते हैं पक्षियों के ऐसे अजब-गजब संसार में और जानते हैं कि ये पक्षी कौन हैं?
-----------------------------------------------------------------------

हवा में उड़ते हुए तुमने सैकड़ों पक्षियों को देखा होगा। लेकिन कई ऐसे पक्षी भी हैं, जो उड़ नहीं सकते, तो कुछ किसी भी दिशा में उड़ सकते हैं। तुम्हें जानकर हैरानी होगी कि रेटाइट्स बर्ड परिवार से जुड़े विशालकाय पक्षी कभी उड़ा भी करते थे। पर समय गुजरने के साथ-साथ ये जमीन पर रहने लगे। इस कारण से इनका शरीर मोटा होता गया। उड़ान भरने वाले पंख बेकार होते गए और वो छोटे कमजोर पंखनुमा बालों में बदल गए। इनके बारे में तुम जानते हो, शतुर्गमुर्ग, जो ऑस्ट्रेलिया में पाया जाता है। यह उड़ नहीं सकता है लेकिन जमीन पर ये 7० किलोमीटर घंटे की गति से दौड़ सकता है। ऐसे ही कई रेटाइट्स बर्ड परिवार से जुड़े पक्षी की लंबी लिस्ट हैं, जिनमें पेंग्विन, इम्यू, कीवी, बतख आदि आते हैं।

पेंग्विन उड़त…

आओ जानें डायनासोर की दुनिया

अभिषेक कांत पाण्डेय
स्टीवन स्पीलबर्ग की जुरासिक पार्क फ्रेंचाइजी की नई फिल्म 'जुरासिक वर्ल्ड’ इन दिनों खूब धूम मचा रही है। इससे पहले भी एक फिल्म 'जुरासिक पार्क’ आई थी, जिसने पूरी दुनिया में डायनासोर नाम के जीव से परिचय कराया था। तुमने भी वह फिल्म देखी होगी, आखिर कहां चले गए ये डायनासोर, कैसे हुआ इनका अंत... इनके बारे में तुम अवश्य जानना चाहोगे।


कई तरह के थे डायनासोर

स्टीवन स्पीलबर्ग की जुरासिक पार्क फ्रेंचाइजी की नई फिल्म 'जुरासिक वर्ल्ड’ इन दिनों खूब धूम मचा रही है। इससे पहले भी एक फिल्म 'जुरासिक पार्क’ आई थी, जिसने पूरी दुनिया में डायनासोर नाम के जीव से परिचय कराया था। तुमने भी वह फिल्म देखी होगी, आखिर कहां चले गए ये डायनासोर, कैसे हुआ इनका अंत... इनके बारे में तुम अवश्य जानना चाहोगे।

डायनासोर की और बातें
.इनके अब तक 5०० वंशों और 1००० से अधिक प्रजातियों की पहचान हुई है।
.कुछ डायनासोर शाकाहारी, तो कुछ मांसाहारी होते थे जबकि कुछ डायनासारे दो पैरों वाले, तो कुछ चार पैरों वाले थे।
.डायनासोर बड़े होते थे, पर कुछ प्रजातियों का आकार मानव के बराबर, तो उससे भी छोटे होते…